झारखंड हाईकोर्ट के सभी मुकदमों की जानकारी अब E-Court पर मिलेगी, मोबाइल एप लांच

Smart News Team, Last updated: 01/11/2020 10:36 AM IST
  • झारखंड हाईकोर्ट ने लोगों की सुविधा के लिए ई-कोर्ट नाम का मोबाइल एप लांच किया है. जिसकी मदद से लोग घर बैठे अपने केस से जुड़ी जानकारी हासिल कर सकेंगे.
झारखंड हाईकोर्ट की सभी जानकारी अब E-Court पर मिलेगी, मोबाइल एप लांच

रांची: झारखंड हाईकोर्ट से जुड़ा कोई काम करवाना अब और भी आसान होने वाला है. हाईकोर्ट ने घर बैठे जानकारी देने के लिए अपना एप जारी किया है, जिसे ई-कोर्ट सर्विसेज नाम दिया गया है. इस एप में कोर्ट में लंबित मामलों की जानकारी से लेकर कई साल पुराने मामलों के आदेश भी आसानी से उपलब्ध हैं. केस की तिथि, अंतिम और अगली सुनवाई समेत अंतरिम आदेश की जानकारी भी उपलब्ध है.

जानकारी के मुताबिक इस एप में केस से संबंधित हर जानकारी शामिल की गई है. केस नंबर, प्रार्थी, प्रतिवादी, जज और वकीलों के नाम पर मामलों को भी आसानी से खोजने की सुविधा है. इसमें केस फाइल होने की तिथि, अंतिम अंतरिम आदेश भी मौजूद हैं. एप को गूगल के प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है.

अवैध हथियार लेकर चलने वाले अपराधियों को तुरंत मार गिराएं: DGP एमवी राव

बताया जा रहा है कि एप जारी करने के पहले हाईकोर्ट ने अदालतों के सभी दस्तावेजों को डिजिटल किया है. बता दें कि  3.60 करोड़ पेज को डिजिटाइज करने में करीब दो साल का समय लगा. इसकी जिम्मेदारी हैदराबाद की एक कंपनी को दी गई थी. डिजिटाइजेशन में कई तरह के डाटा को आधार बनाया जा रहा है.  इनमें 32 आधार दिए गए हैं. इसमें बेंच कोड, केस टाइप, केस नंबर, प्रार्थी, प्रतिवादी का नाम, दोनों पक्षों के वकील के नाम, जिला, जज का नाम, मामले के निष्पादन की तिथि समेत अन्य बिंदु शामिल हैं. कुल 32 आधार पर रिकॉर्ड देखने की सुविधा लोगों को मिल सकेगी.

रांची: नमामि गंगे मिशन के तहत दो से चार नवंबर के बीच मनाया जाएगा गंगा उत्सव

इसके साथ ही सारे काम-काज को पेपरलेस बनाने की चल रही तैयारी की जा रही है. झारखंड हाईकोर्ट ने अगले साल तक पूरे हाईकोर्ट को पेपरलेस करने की योजना बनायी है. इसका ट्रायल भी मई में किया गया था. मई में चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन और जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद की अदालत ने बिना फाइल और किसी दस्तावेज के मामलों की सुनवाई की थी. सभी दस्तावेज डिजिटल थे और लैपटॉप पर ही जजों ने देखा था. ट्रायल सफल रहने के बाद अब पूरे कोर्ट को पेपरलेस बनाने पर काम हो रहा है.

 

अन्य खबरें