Jharkhand Police: सहायक पुलिस कर्मियों के समर्थन में आए मित्र और परिजन,जिला मुख्यालयों में भी धरना

Sumit Rajak, Last updated: Thu, 28th Oct 2021, 5:05 PM IST
  • रांची के मोरहाबादी मैदान में अपनी मांगों को लेकर गुरुवार को झारखंड के सभी 12 जिला मुख्यालय में सहायक पुलिस कर्मियों के समर्थन में उनके परिजनों और मित्रों ने धरना के साथ साथ सड़कों पर उनके समर्थन में प्रदर्शन कर रहे. सहायक पुलिस कर्मी 32 दिनों से अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे है.
सहायक पुलिस कर्मियों के समर्थन में आए मित्र और परिजन

रांचीः झारखंड के सहायक पुलिस कर्मियों के समर्थन में उनके मित्र और परिजन भी आ गए हैं. गुरुवार को झारखंड के सभी 12 जिला मुख्यालय में सहायक पुलिस कर्मियों के समर्थन में उनके परिजनों और मित्रों ने धरना  के साथ साथ सड़कों पर उनके समर्थन में प्रदर्शन किया. कई जिला मुख्यालय में सहायक पुलिसकर्मियों के परिजनों को धरने पर बैठने से भी रोक दिया गया. हालांकि बाकी जगहों पर सहायक पुलिस कर्मियों के समर्थन में जो लोग भी धरना प्रदर्शन कर रहे हैं. सभी जगह शांतिपूर्ण चल रहा है.इधर मोराबादी मैदान में भी कड़ी धूप के बावजूद एक साथ सभी सहायक पुलिसकर्मी मैदान में धरने पर बैठे हुए हैं.

सहायक पुलिस कर्मियों के अनुसार जब तक सरकार उनकी मांगें नहीं मानती है. तब तक वे शांतिपूर्ण तरीके से मोराबादी मैदान में आंदोलन करते रहेंगे. सहायक पुलिस कर्मियों के अनुसार अगर जल्द ही सरकार उनकी बातें नहीं मानती है तो उनके मित्र और परिजन भी रांची पहुंचकर मोराबादी मैदान में धरने में शामिल हो जाएंगे. उस दौरान मोराबादी मैदान में पैर रखने की भी जगह नहीं मिलेगी.

रांची में खुलेगा AIIMS, PMO ने राज्य सरकार को जमीन चिन्हित करने को लिखा लेटर

जारी रहेगा आंदोलन

झारखंड सहायक पुलिस कर्मी 32 दिनों से मोरहाबादी मैदान में अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे है. मोराबादी मैदान में उन्हें जिला प्रशासन की ओर से बुनियादी सुविधा भी नही मुहैया कराई गई है. साथ ही मौसम की भी दोहरी मार झेलनी पड़ रही है. वर्ष 2017 में गृह कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग के अधिसूचना के आधार पर 12 अतिनक्सल प्रभावित जिलों के लिए कुल 2500 झारखंड सहायक पुलिस की नियुक्ति अनुबंध के आधार पर की गई थी. इसके एवज में 10 हजार रुपये प्रतिमाह वेतन निर्धारित किया गया था. साथ ही नियुक्ति के समय कहा गया था कि 3 साल पूरे होने के बाद झारखंड पुलिस के पद पर सीधी नियुक्ति की जाएगी. लेकिन अब तक इस दिशा में कदम नहीं बढ़ाया गया है. 

कोरोना टेस्ट पर झगड़ रहे झारखंड आ रहे फ्लाइट पैसेंजर, रांची एयरपोर्ट पर रोज बकझक

ऐसे में झारखंड सहायक पुलिस के लगभग 2200 सौ कर्मी 12 जिलों से इस आंदोलन में शामिल हुए हैं. इन जिलों में गढ़वा, पलामू, लातेहार, चतरा, दुमका, लोहरदगा, गिरिडीह, चाईबासा, जमशेदपुर, खूंटी, सिमडेगा और गुमला के सहायक पुलिसकर्मी शामिल है. सहायक पुलिस कर्मियों का आरोप है कि सरकार अब उनकी बातों को अनसुनी कर रही है. लेकिन चाहे कितने भी कठिनाइयां क्यों ना आए वह आंदोलन तब तक करेंगे जब तक उनकी मांगें नहीं मानी जाती.

 

अन्य खबरें