बाप-बेटे से मारपीट मामले में रांची पुलिस इंस्पेक्टर के खिलाफ कोर्ट में सुनवाई शुरू

Nawab Ali, Last updated: Wed, 1st Sep 2021, 12:15 AM IST
  • झारखंड के रांची में चर्चित बाप-बेटा पिटाई मामले में सुखदेव नगर थाना प्रभारी के खिलाफ कोर्ट में सुनवाई शुरू हो गई है. बाप-बेटा मारपीट मामले में कोर्ट ने पीड़ित की पत्नी मोनिका गुप्ता, मयंक रॉय, थाना प्रभारी ममता कुमारी के खिलाफ केस दर्ज किया है. कोर्ट ने मामले में दूसरी सुनवाई के लिए 8 सितंबर की तारिख मुकर्र की है.
फाइल फोटो.

रांची. झारखंड के चर्चित बाप-बेटा पिटाई मामले में रांची के सुखदेव नगर थाना प्रभारी ममता कुमारी के खिलाफ कोर्ट में सुनवाई शुरू हो गई है. कोर्ट ने पिटाई मामले में पत्नी मोनिका रॉय, मयंक रॉय और सुखदेव नगर थाना की प्रभारी ममता कुमारी को आरोपी बनाया है. कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई 8 सितंबर मुकर्र की है. पीड़ित संदीप गुप्ता ने 26 अगस्त को कोर्ट में केस दर्ज कराया था. राष्ट्रीय मानवाधिकार ने भी इस मामले को गंभीरता से लेते हुए दिल्ली में ऑनलाइन केस दर्ज किया है.

रांची के लाइन टैंक रोड में रहने वाले सनीप गुप्ता पेशे से चश्मा की दूकान चलाते हैं. संदीप गुप्ता और उनके चार साल के बेटे दीप के साथ सुखदेव नगर थाना में मारपीट की गई थी. दरअसल संदीप का अपनी पत्नी मोनिका गुप्ता से काफी समय से विवाद चल रहा है लेकिन रक्षा बंधन के दिन संदीप गुप्ता के बेटे दीप ने अपनी मां से मिलने की जिद की जिस पर संदीप बेटे को उसकी मां से मिलाने के लिए आर्यपुरी क्षेत्र में ले गए. मायके में अपने पति को देख मोनिका गुप्ता ने हंगामा खड़ा कर दिया. जिसके बाद पुलिस संदीप और उसके बेटे को सुखदेव नगर थाना में ले आई. 

पूर्व CM बाबूलाल मरांडी के सलाहकार सुनील तिवारी की जमानत याचिका पर जल्द आएगा फैसला, सुनवाई पूरी

सुखदेव नगर थाना में संदीप और उसके चार साल बेटे को बेरहमी से पीटा गया. पिटाई में संदीप और बेटे दीप को भी चोटें आई थी. संदीप ने सुखदेव नगर थाना प्रभारी ममता कुमारी के खिलाफ 26 अगस्त को  मारपीट करने, किसी भी व्यक्ति को गलत तरीके से रोकना, धमकाना, शांति भंग करने के इरादे से जान बूझकर अपमान करना, स्वेच्छा से गंभीर चोट पहुंचाना एवं अपराध करने के मामले में कोर्ट केस दर्ज कराया था.

इस्लामपुर-हटिया स्पेशल ट्रेन से नीचे गिरा यात्री, RIMS में इलाज जारी

मंगलवार को न्यायिक दंडाधिकारी अभिषेक प्रसाद की अदालत में पहली सुनवाई हुई है. जिसमें शिकायतकर्ता को अदालत में अगली निर्धारित तारीख को बयान दर्ज कराने का निर्देश दिया गए हैं. साथ ही अगली सुनवाई के लिए आठ सितंबर की तारीख निर्धारित की गयी है.

 

अन्य खबरें