JPSC मुद्दे पर सदन में हंगामा, वेल में नारेबाजी करने पर जेपी पटेल मार्शल आउट

Shubham Bajpai, Last updated: Fri, 17th Dec 2021, 12:34 PM IST
  • झारखंड में चल रहा शीतकालीन सत्र हंगामे की भेंट चढ़ गया. झारखंड विधानसभा में जेपीएससी मुद्दे पर भाजपा विधायक जमकर हंगामा कर रहे हैं. बीजेपी विधायक जेपीएससी अध्यक्ष को बर्खास्त करने की मांग कर रहे हैं. इस दौरान वेल में जाकर भाजपा विधायकों ने नारेबाजी की. इस दौरान जेपी पटेल को मार्शल आउट कराया गया.
JPSC मुद्दे पर सदन में हंगामा, वेल में नारेबाजी करने पर जेपी पटेल मार्शल आउट

रांची. झारखंड विधानसभा के शीताकलीन सत्र में हेमंत सोरेन सरकार चालू वित्तीय वर्ष के लिए द्वितीय अनुपूरक बजट पेश करने जा रही थी. इससे पहले भाजपा विधायकों ने जेपीएससी मुद्दे को लेकर हंगामा शुरू कर दिया. इस दौरान जेपीएससी अध्यक्ष को बर्खास्त करने की मांग को लेकर भाजपा विधायक वेल में जाकर नारेबाजी करने लगे.  इस बीच 2936 करोड़ का अनुपूरक व्यय विवरणी पेश किया गया.

सदन में हंगामा करने को लेकर बीजेपी विधायक जेपी पटेल को मार्शल आउट किया गया. हंगामे के बीच सदन को 12 बजकर 15 मिनट तक के लिए स्थगित कर दिया गया है.

झारखंड में बच्चों में फैल रहा किडनी का कैंसर , अस्पताल पहुंचे रहे बच्चों में 70 फीसदी ग्रस्त

सीबीआई जांच की मांग को लेकर धरने पर बैठे भाजपा विधायक

भाजपा विधायक हंगामे के बीच जेपीएससी मुद्दे पर धरने पर बैठ गए थे. विधायकों की मांग है कि जेपीएससी अध्यक्ष को बर्खास्त किया जाए और इस मामले की सीबीआई जांच करवाई जाए. इस मामले में धाधंली की जांच करवाने के साथ पंचायत सचिव और हाईस्कूल की रिक्त सीट पर नियुक्ति पत्र देने की मांग कर रहे थे.

भाजपा के हंगामे से सीएम नाराज

भाजपा द्वारा किए जा रहे हंगामे से नाराज मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि सदन में यह इस बात निर्भर करता है कि विपक्ष का सवाल कितना निष्पक्ष और गंभीर है. विपक्ष अगर सही सवाल पूछेगा तो उसका जवाब जरूर दिया जाएगा.

झारखंड : शूटिंग चैंपियंस का बंगाल में मिला शव, चौथे भारतीय शूटर लायक ने की सुसाइड

पिछली जाति को मिलेगा 27 फीसदी आरक्षण

झारखंड में पिछड़ी जातियों को 27 फीसदी आरक्षण देने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. जल्द ही सूचीबद्ध करके इसकी समिति का गठन किया जाएगा. इस दौरान सीएम सोरेन ने लखीमपुर खीरी मामले पर गृहराज्य मंत्री अजय मिश्रा पर हमले करते हुए कहा कि उनकी क्या नैतिकता बनती है, पीएम जी से भी पूछना चाहिए कि ऐसे हालात में निर्णय किसको लेना है. उनकी बर्खास्ती का फैसला कोर्ट करेगी या फिर केंद्र सरकार,

 

अन्य खबरें