रांची: गैर-बीजेपी दलों की सर्वदलीय बैठक में 27 सितंबर को भारत बंद का फैसला

ABHINAV AZAD, Last updated: Tue, 21st Sep 2021, 10:45 AM IST
  • विपक्षी दलों ने बढ़ती महंगाई समेत केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ आंदोलन का ऐलान किया है. इसी के तहत विपक्षी दलों ने 26 सितंबर को राज्यभर में मशाल जुलूस निकालने का फैसला लिया. जबकि 27 सितंबर को भारत बंद को सफल बनाने का निर्णय लिया गया.
सर्वदलीय बैठक में JMM समेत विपक्षी दलों ने केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ आंदोलन का ऐलान किया है.

रांची. झारखंड की तमाम विपक्षी पार्टियों ने केन्द्र सरकार के खिलाफ संयुक्त आंदोलन करेंगे. विपक्षी दलों ने बढ़ती महंगाई समेत केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ आंदोलन का ऐलान किया है. दरअसल, सोमवार को इस बाबत झारखंड कांग्रेस भवन में सर्वदलीय बैठक हुई. इस सर्वदलीय बैठक में जेएमएम, कांग्रेस, आरजेडी, माले, सीपीएम, मासस, तृणमूल कांग्रेस समेत कई अन्य दलों के नेताओं ने इस पर मुहर लगाई.

झारखंड कांग्रेस भवन में हुई सर्वदलीय बैठक में कई फैसले लिए गए. इसी के तहत विपक्षी दलों ने 26 सितंबर को राज्यभर में मशाल जुलूस निकालने का फैसला लिया. जबकि 27 सितंबर को भारत बंद को सफल बनाने का निर्णय लिया गया. मिली जानकारी के मुताबिक, भारत बंद के अलावा झारखंड के गैर-बीजेपी और NDA से दूर दल भी अलग से आंदोलन करेंगे. इसी के तहत जिला मुख्यालय पर 29 सितंबर को धरना- प्रदर्शन का संयुक्त कार्यक्रम आहूत किया गया है.

तेजस्वी की चुटकी- हनुमान चालीसा को कमरा मांगने वाले घर में पाठ करते हैं क्या !

दरअसल, विपक्षी दलों का यह आंदोलन बढ़ती महंगाई, कृषि कानून, पेगासस मुद्दा और केंद्र की नीतियों के खिलाफ है. ऐसा लंबे वक्त बाद होगा जब झारखंड में विपक्षी दल केंद्र सरकार के खिलाफ एक मंच पर दिखेंगे. विपक्षी दलों के नेताओं ने बताया कि आंदोलन को सफल बनाने के लिये प्रदेश से लेकर जिलास्तर तक पर तमाम दलों के बीच समन्वय बनाने की रणनीति तय की गई है. यह पहला मौका होगा जब झारखंड में हेमंत सोरेन सरकार के गठन के बाद राज्य की सत्ताधारी पार्टी केंद्र सरकार के खिलाफ एक साथ सड़क पर नजर आएंगे.

अन्य खबरें