रांची रिम्स की बढ़ती जा रही बदहाली, मरीज इलाज के लिए घंटो एम्बुलेंस में कर रहे इंतजार

Smart News Team, Last updated: Fri, 19th Feb 2021, 7:49 AM IST
  • रांची रिम्स अस्पताल में इलाज के लिए मरीजों को एम्बुलेंस में ही घंटो इंतजार करना पड़ रहा है. वहीं इमरजेंसी वार्ड में दर्जनों मरीजों का इलाज ट्राली पर ही किया जा रहा है.
रांची रिम्स की बढ़ती जा रही बदहाली, मरीज इलाज के लिए घंटो एम्बुलेंस में कर रहे इंतजार

रांची. रांची के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स में बदहाली बढ़ती ही जा रही है. मरीजो को अस्पताल तक ले जाने के लिए कभी एम्बुलेंस नहीं मिलती. अगर मरीज जैसे तैसे अस्पताल पहुंच भी जाए तो उसे समय पर बेड तो दूर इलाज भी नहीं मिल पा रहा है. इतना ही नहीं रिम्स में बेड्स की संख्या कम होने के कारण तो कभी कभी मरीजों कोइलाज के लिए एम्बुलेंस में ही घंटो इंतजार करना पड़ता है. वही कभी कभी तो डॉक्टर मरीजो का उपचार ट्राली पर ही करते है.

इसी तरह गुरुवार को एक मामला सामने आया जिसमे एक हृदय रोगों मरीज को पलामू से रिम्स रेफर किया गया था. वही जब एम्बुलेंस रिम्स पहुंची तो वहां पर उसे अस्पताल के अंदर ले जाने के लिए कोई स्ट्रेचर नहीं मिलने पर एम्बुलेंस में ही एक घंटा इंतेजार करना पड़ा. जिसके बाद उसका इलाज किया गया. इतना ही नहीं उसे इमरजेंसी वार्ड तक मे नहीं ले जाया गया क्योंकि तकरीबन एक दर्जन मरीजो का उपचार इमरजेंसी वार्ड में ट्राली पर ही किया जा रहा था. इसी तरह ऐसे अन्य कई मरीजो को भी अस्पताल के बाहर एम्बुलेंस में अपनी बारी आने का इंतेजार करना पड़ा.

दिव्यांगों की वितरण सामग्री में गड़बड़ी, भड़के सांसद संजय सेठ ने करवाया ठीक

वही मरीजो को अस्पताल के बाहर इंतेजार करने वाले मामले के बारे में जब रिम्स के अधीक्षक डॉ विवेक कश्यप का कहना है कि उन्हें इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है. आपको बता दे कि रिम्स के इमरजेंसी वार्ड में करीब 20 बेड है. जिसमे से दो बेड पर वेंटिलेटर, सात बेड पर ऑक्सीजन की सुविधा उपलब्ध है. वही जब मरीजो की संख्या इमरजेंसी वार्ड में बढ़ जाती है तो मन से कइ मरीजो का इलाज ट्राली पर ही किया जाता है.

आरक्षण की मांग को लेकर सम्मेलन करेगा श्री कृष्ण विकास परिषद

अन्य खबरें