ओरमांझी हत्याकांड में पुलिस अब तक नहीं खोज पाई सिर, ईनाम राशि अब 50 हजार

Smart News Team, Last updated: Wed, 6th Jan 2021, 6:37 PM IST
  • पुलिस के लिए युवती का सिर नहीं मिलने के लिए यह पता करना मुश्किल बना हुआ है हत्या किसकी हुई है. हालांकि रांची की एक महिला ने शव देखकर उसे अपनी बेटी होने का दावा किया है, पुलिस ने जांच के लिए महिला का डीएनए लिया है.
फाइल फोटो

रांची. राजधानी रांची स्थित ओरमांझी में युवती हत्याकांड की गुत्थी 100 घंटे बाद भी पुलिस नहीं सुलझा नहीं पाई है. इसके साथ ही पुलिस को अब तक युवती का गायब सिर भी नहीं मिला है. हाल के दिनों में गायब हुई लड़कियों के परिजन भी पुलिस के पास पहुंचे. उनमें से कई लोगों ने शव को भी देखा लेकिन पहचानने से इनकार कर दिया. ऐसे में पुलिस के लिए युवती का सिर ढूंढना चुनौती बना हुआ है. पुलिस ने युवती का सिर ढूंढने के लिए 50 हजार रुपए का ईनाम भी रख दिया है.

उल्लेखनीय है कि रांची की ही एक महिला ने शव को देखकर अपनी बेटी होने का दावा किया है. इसके बाद पुलिस अब डीएनए जांच कर यह जानने की कोशिश करेगी की महिला के दावे में कितना दम है. वहीं युवती के डीएनए को एफएसएल में सुरक्षित रखवाया गया है, ताकि उसका मिलान प्राप्त डीएनए से करवाया जा सके. 

मानव तस्करी पर सख्त RPF टीम, एक महीनें में किया दर्जनों बच्चों का रेस्क्यू

पुलिस के अनुसार सबसे बड़ी चुनौती युवती की पहचान को लेकर है. युवती का कटा हुआ सिर नहीं मिलने की वजह से अभी तक हत्या किसकी हुई है, यहीं जानकारी पुलिस को नहीं मिल पाई है. पुलिस की ओर से तफ्तीश की जा रही है. एफएसएल सहित दूसरी टीमें मामले की जांच में लगी हुई हैं. हत्याकांड की गुत्थी को सुलझाने के लिए सिल्ली डीएसपी चंद्रशेखर आजाद के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया गया है. एसआईटी में ओरमांझी थाना प्रभारी, इंस्पेक्टर असित मोदी, साइबर इंस्पेक्टर ममता भी शामिल है. 

अन्य खबरें