लाइट हाउस प्रोजेक्ट का हो रहा विरोध, स्थानीय लोगों ने स्थल निरीक्षण करने से रोका

Smart News Team, Last updated: Wed, 3rd Feb 2021, 1:29 PM IST
  • लाइट हाउस प्रोजेक्ट का स्थल निरीक्षण करने गयी टीम को स्थानीय लोगों ने रोका. जिसके बाद इसकी सूचना नगरीय प्रशासन और जगन्नाथपुर थाने में दे दी गयी है. नगरीय निदेशालय के अधिकारियों का कहना है कि आनी टोला की जमीन स्थानीय लोगों की नहीं है. वे गलत विरोध कर रहे हैं.
लाइट हाउस प्रोजेक्ट का शुभारम्भ करते प्रधानमंत्री (फाइल तस्वीर)

रांची : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में 6 प्रमुख शहरों के लाइट हाउस प्रोजेक्ट का शुभारंभ किया था. झारखंड वासियों को अच्‍छी खबर यह है कि इसमें रांची भी आता है. लेकिन इस योजना के खिलाफ विरोध शुरू हो गया है. इस प्रोजेक्‍ट का निमार्ण एचईसी परिसर के आनी टोला में किया जाना है. प्रोजेक्ट के शुरू होने से पहले स्थल निरीक्षण के लिए नगरीय निदेशालय के असिस्टेंट डायरेक्टर शैलेश प्रियदर्शी, नगर निगम से सिटी मैनेजर और मैजिक रेट कंपनी की टीम जगह पर पहुंची थी लेकिन स्थानीय लोगों ने टीम के खिलाफ निरीक्षण करने से रोक दिया. स्‍थानीय लोगों से बातचीत करने पर पता चला कि वह इससे खुश नहीं है और वह टीम को जगह का जायजा लेने भी नहीं दे रहे हैं. लोगों ने टीम को आनी टोला स्थित फुटबॉल मैदान से हटने को कहा. स्थानीय लोगों का कहना था कि इस जमीन पर वर्षों से रह रहे हैं. उनको उजाड़कर लाइट हाउस प्रोजेक्ट बनाना कहां का इंसाफ है. 

बता दें कि केंद्रीय शहरी मंत्रालय की महत्वाकांक्षी योजना लाइट हाउस प्रोजेक्ट के तहत झारखंड में 1008 आवास बनेंगे. 2021 में यह प्रोजेक्ट पूरा करना है. प्रोजेक्ट के तहत बनने वाले मकान भूकंपरोधी होंगे. जो विशेष तकनीक से बनाए जाएंगे. इस प्रोजेक्ट का शिलान्यास 1 जनवरी 2021 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऑनलाइन किया था. हालांकि विरोध कर लोगों को उपरोक्त अधिकारियों ने बताया है कि प्रोजेक्ट के तहत यहीं के लोगों को कम कीमत पर मकान मिलेगा. सरकार उनके लिए ही मकान बनवाने जा रही है. 

रांची: मनरेगा की मज़दूरी दर बढ़ाने की अपील, राज्य सरकार ने केंद्र को लिखा पत्र

स्थानीय लोगों ने अफसरों से बातचीत के बाद विरोध शुरू कर दिया. विरोध की खबर के बाद आसपास के सैकड़ों लोग एकत्र हो गए. लोगों के विरोध को देखते हुए अफसरों को वहां से हटना पड़ा. स्थल निरीक्षण करने गयी टीम ने इसकी सूचना नगरीय प्रशासन और जगन्नाथपुर थाने में दे दिया है. स्थानीय लोग प्रोजेक्ट के बारे में नहीं जानते हैं. इसलिए विरोध कर रहे हैं. उनके साथ बातचीत होगी. उनके हर सवाल का जवाब दिया जाएगा.

 

अन्य खबरें