पूर्व CM बाबूलाल मरांडी के सलाहकार सुनील तिवारी की जमानत याचिका पर जल्द आएगा फैसला, सुनवाई पूरी

Ankul Kaushik, Last updated: Tue, 31st Aug 2021, 2:10 PM IST
  • झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी के सलाहकार सुनील तिवारी की अग्रिम जमानत याचिका पर रांची सिविल कोर्ट में सुनवाई पुरी हुई. इस केस में सुनावई पूरी होने के बाद अदालत ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के पश्चात आदेश सुरक्षित रख लिया है.
पूर्व CM बाबूलाल मरांडी के सलाहकार सुनील तिवारी की जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी, फोटो क्रेडिट (सुनील तिवारी ट्विटर)

रांची. झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बूलाल मरांडी के सलाहकार सुनील तिवारी पर यौन शोषण का आरोप है. इस आरोप के चलते मंगलावर को बाबूलाल मरांडी के राजनीतिक सलाहकार सुनील तिवारी की अग्रिम जमानत अर्जी पर रांची सिविल कोर्ट में सुनवाई हुई. रांची सिविल कोर्ट के न्यायायुक्त विशाल श्रीवास्तव की कोर्ट में बचाव पक्ष के अधिवक्ता ने कहा सुनील तिवारी पर जो आरोप लगे हैं वह सभी आरोप बेबुनियाद और निराधार हैं. इसके साथ ही अभियोजन पक्ष की ओर से अपर लोक अभियोजक ने कहा है कि सुनील तिवारी पर लगे गए आरोप काफी गंभीर हैं इसलिए उन्हें अग्रिम जमानत नहीं दी जानी चाहिए. अदालत ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है. बता दें कि सुनील तिवारी ने बीते 25 अगस्त को अर्जी दायर कर अग्रिम राहत देने की गुहार लगायी थी.

बता दें कि झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी के सलाहकार सुनील तिवारी पर उनकी मेड ने दुष्कर्म का आरोप लगाया है. इस मामले में सुनील तिवारी के खिलाफ रगोड़ा थाना में मामला दर्ज है और कोर्ट के सामने पीड़िता ने 164 का बयान भी दर्ज करा दिया है. इस बयान के आधार पर कोर्ट की तरफ से सुनील तिवारी के खिलाफ वारंट जारी कर दिया है.

झारखंड सरकार ने मनरेगा मजदूरों के खाते में डाले 350 करोड़ रुपये, बकाया राशि का किया भुगतान

यह मामला राजनीति से जुड़ा हुआ है इसलिए झारखंड के राज्‍यपाल रमेश बैस ने राज्‍य के डीजीपी को तलब करते हुए कहा है कि इस केस में किसी निर्दोष व्‍यक्ति के खिलाफ कार्रवाई नहीं होनी चाहिए. वहीं झारखंड के मुख्‍य विपक्षी दल बीजेपी ने इसे राजनीतिक साजिश करार दिया गया है. पुलिस इस केस को लेकर काफी परेशान है क्योंकि पीड़िता के परिवार के सदस्‍यों का कुछ पता नहीं.

अन्य खबरें