झारखंड के युवक की बनाई स्मार्ट वॉच बताएगी ऑक्सीजन लेवल, दवाई के लिए देगी अलर्ट

Smart News Team, Last updated: Wed, 7th Jul 2021, 12:31 PM IST
  • ऑक्सीजन और पल्स रेट मापने वाली भारतीय स्मार्ट वॉच बनाने वाले रांची निवासी रोहित की देशभर में चर्चा हो रही है. रांची के रोहित की टीम का चयन इंडियन इनोवेशन चैलेंज डिजाइन कांटेस्ट के फाइनल में हुआ है. इन 60 टीमों सें 30 टीमों को भारत सरकार की ओर से स्टार्टअप शुरु करने के लिए फंड दिया जाएगा.
इंडियन इनोवेशन कांटेस्ट 2021 में रांची के रोहित सिलेक्टेट, बनाई थी स्वदेशी स्मार्ट वॉच (प्रतीकात्मक फोटो).

रांची. विदेशों की स्मार्ट वॉच की तरह ऑक्सीजन और पल्स रेट मापने वाली भारतीय स्मार्ट वॉच बनाने वाले रांची निवासी रोहित की देशभर में चर्चा हो रही है. रांची के रोहित की टीम का चयन इंडियन इनोवेशन चैलेंज डिजाइन कांटेस्ट के फाइनल में हुआ है. कांस्टेस्ट में देशभर की करीब 1000 यूनिवर्सिटी और कॉलेजों ने भाग लिया था. टॉप-60 टीमों में रोहित की भी टीम का सिलेक्शन हुआ है. आइआइएम बेंगलुरु में इन सभी टीमों को और निखारने का काम 15 जून से शुरु होने वाला है.

इसके बाद नवंबर में इन सिलेक्टेट 60 टीमों में से 30 टीमों को चुना जाएगा. चयनित तीस टीमों को भारत सरकार की ओर से स्टार्टअप शुरु करने के लिए फंड दिया जाएगा. फिलहाल सभी 60 टीमों को बीस हजार रुपये की राशि पुरुस्कार के रुप में मिलेगी. 2019 में इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स की प्रतिभा को निखारने के उद्देश्य से शुरु हुई इस प्रतियोगिता का आयोजन आइआइएम बेंगलुरु, एआइसीटीआई और माय जीओभी द्वारा किया जाता है. यह प्रतियोगित आत्मनिर्भर भारत से भी जुड़ी है.

दरअसल, रोहित की 6 सदस्यों की टीम का प्रोजेक्ट ई-हेल्थ मॉनिटरिंग सिस्टम है. इसके तहत रोहित की टीम ने तीन स्मार्ट चीजें स्मार्ट वॉच, एड बॉक्स, और एक एप तैयार किया है. एक ओर जहां स्मार्ट वॉच ऑक्सीजन और पल्स रेट मापने के काम आती है वहीं दूसरी ओर एड बॉक्स मरीज को समय पर दवाई खाने के लिए अलर्ट करता है. ये उनके लिए बेहद फायदेमंद है जो दवाई समय पर लेना भूल जाते हैं. 

अब बिहार के इन लोगों को नहीं मिलेगा झारखंड पुलिस में आरक्षण का लाभ, जानें 

स्मार्ट वॉच पर टाइम और वाट्सएप मैसेज भी देखे जा सकते हैं. स्मार्ट वॉच का सबसे महत्वपूर्ण फीचर पैनिक बटन है. अगर कोई बीमार व्यक्ति अकेला है और उसे अचानक कोई परेशानी होने लगे तो पैनिक बटन दबाने से उनके कांटेक्ट के चार लोगों के पास मैसेज चला जाएगा कि वे अकेले हैं और उन्हें मदद की जरुरत है. रोहित रांची के बिरसा चौक के पास रहते हैं. वे अभी बीटेक के लास्ट इयर के छात्र हैं रोहित के पिता सुधीर कुमार छात्रों को मैनेजमेंट की तैयारी कराते हैं और गरीब बच्चों के लिए स्कूल भी चलाते हैं। मां डा. सुनिता रांची वीमेंस कालेज में प्रोफेसर हैं।.

अन्य खबरें