रांची: गैंगवार की जांच करेगी SIT टीम, कल मारा गया था कुख्यात कालू लामा

Somya Sri, Last updated: Fri, 28th Jan 2022, 11:36 AM IST
  • गुरुवार को रांची के मोहरबादी में दो बाइक पर सवार पांच अपराधियों ने कुख्यात कालू लामा की गोली मारकर हत्या कर दी थी. वीवीआईपी इलाके में इस घटना को अंजाम दिया गया था. अब खबर है कि पुलिस ने एक अपराधी को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि चार फरार अपराधियों को पकड़ने के लिए एसआईटी टीम गठित कर दी गयी है.
CCTV में हथियार लहराते दिखे अपराधी (फोटो साभार लाइव हिंदुस्तान)

रांची: गुरुवार को झारखंड की राजधानी रांची में दिनदहाड़े कुख्यात कालू लामा की हत्या कर दी गई थी. वीवीआईपी इलाके में कालू लामा पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई गई थी. बाइक पर सवार पांच अपराधियों ने इस घटना को अंजाम दिया था. अब खबर है कि पुलिस ने एक अपराधी को गिरफ्तार कर लिया है जबकि चार फरार अपराधियों को पकड़ने के लिए छापेमारी कर रही है. वहीं मामले की गंभीरता को देखते हुए अपराधियों को पकड़ने के लिए एसएसपी सुरेंद्र कुमार झा ने एसआईटी टीम गठित कर दी है. बता दें कि इस सनसनीखेज घटना को जहां अंजाम दिया गया था वहां से मात्र 500 मीटर की दूरी पर जेएमएम सुप्रीमो व राज्यसभा सांसद शिबू सोरेन, रांची डीसी, एसएसपी, ग्रामीण एसपी सहित कई आला अधिकारियों और मंत्रियों का आवास है.

कालू लामा को उतारा मौत के घाट

जानकारी के मुताबिक सीसीटीवी फुटेज में स्पष्ट दिख रहा है कि गुरुवार दिन के दो बजे दो बाइक पर सवार पांच अपराधी हाथ में हथियार लेकर मोरहाबादी पहुंचे. चलती बाइक से पिस्टल का कॉर्क चढ़ाया और फायरिंग की. कालू जिस कार में बैठा था, अपराधियों ने वहां पहुंचकर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी. इस घटना में कालू मारा गया, जबकि उसका भाई राजू लामा और साथी शुभम विश्वकर्मा घायल हो गया. सीसीटीवी फुटेज के आधार पर गोलीबारी में शामिल दो अपराधी सोनू शर्मा और राजू चोटी खुद शामिल था. कालू की हत्या करने के बाद अपराधी अलग-अलग बाइक व स्कूटी से फरार हो गए.

झारखंड के 9 खनिज ब्लॉकों की होगी नीलामी, खान एवं भूतत्व विभाग ने निकाली टेंडर

क्यों कराई गई हत्या?

जानकारी के मुताबिक लवकुश शर्मा और कालू लामा एदलहातू इलाके में रहता है. लवकुश शर्मा जून 2021 में जेल से छूटा था. जबकि दिसंबर में कालू रिहा हुआ था. कालू और लवकुश दोनों ही अपना वर्चस्व कायम करना चाह रहे थे. पुलिस जांच में यह बात सामने आयी है कि मोरहाबादी स्थित सब्जी बाजार और चाय समेत अन्य दुकानों से लवकुश शर्मा के कहने पर उसका खास राजू चोटी रंगदारी वसूल रहा था. जेल से छूटने के बाद कालू लामा ने राजू चोटी की वसूली बंद करा दी. इसके बाद कालू अपने सबसे करीबी शुभम विश्वकर्मा से वसूली कराने लगा. इस वजह से लवकुश और कालू गिरोह के बीच रंजिश शुरू हो गई. माना जा रहा है कि कालू लामा की हत्या इसी वजह से कराई गई.

शिबू सोरेन के घर के पास गैंगवार, गोलीबारी में गैंगस्टर कालू लामा की मौत, दो घायल

कौन है कालू लामा

बता दें कि साल 2015 में लवकुश शर्मा ने 23 नवंबर की शाम मोरहाबादी मैदान के पास ही पथ निर्माण विभाग के सहायक अभियंता सुरेंद्र प्रसाद को गोली मार दी थी, क्योंकि उन्होंने उसे रंगदारी देने से इनकार कर दिया था. इस घटना के बाद रांची पुलिस पटना के पालीगंज में लवकुश शर्मा को गिरफ्तार करने के लिए गई थी लेकिन लवकुश शर्मा हाथ तो नहीं लगा इस दौरान पुलिस के तरफ से हुई फायरिंग में सरपंच रामनाथ प्रसाद चंद्रवंशी की मौत हो गई. उस दौरान लवकुश शर्मा पर दो लाख रुपये का इनाम भी रखा गया था. तत्कालीन रांची एसएसपी कुलदीप द्विवेदी के निर्देश पर 13 अप्रैल 2017 को कोलकाता से लवकुश शर्मा को गिरफ्तार किया गया था, फिलहाल लवकुश शर्मा जमानत पर चल रहा था. कालू लामा पर 50 से अधिक मामले दर्ज हैं.

अन्य खबरें