रांची मेदांता के मेडिकल स्टाफ की मौत, दो दिन पहले लगा था कोविशिल्ड टीका

Smart News Team, Last updated: 03/02/2021 06:52 PM IST
  • रांची में मेदांता के एक स्वास्थ्यकर्मी, मन्नू पाहन की मौत की खबर है. बता दें कि दो दिन पहले एक फरवरी को स्वास्थ्यकर्मी को कोरोना वैक्सीन दी गई थी. हालांकि मौत के कारण की अभी पुष्टि नहीं की गई है. डॉक्टरों का कहना है कि मौत का कारण पोस्टमार्टम के बाद ही पता चलेगा.
मन्नू पाहन की फाइल फोटो. एक फरवरी को उन्होंने कोरोना वैक्सीन का इंजेक्शन लिया था.

रांची. मेदांता रांची के स्वस्थ्यकर्मी मन्नू पाहन की मौत हो गई है. मन्नू पाहन इंडोस्कोपी डिपार्टमेंट में काम करते थे. उनके शव को पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है. जानकारी के मुताबिक मन्नू पाहन को दो दिन पहले कोविड वेक्शिनेशन के लिए कोविशिल्ड वैक्सीन का इंजेक्शन दिया गया था. वहीं मन्नू पाहन की मौत के कारण की पुष्टि नहीं की गई है. 

अस्पताल प्रबंधन ने बताया कि उसने एक फरवरी को वैक्सीन लिया था. साथ ही उन्होंने कहा कि मृतक को पहले से किसी भी तरह की कोई बीमारी की अभी तक कोई जानकारी नहीं है. वहीं सिविल सर्जन डॉ विजय बिहारी प्रसाद ने जानाकरी देते हुए कहा कि एक टीम मृतक की जानकारी लेने के लिए उसके गांव और अस्पताल भेजी गई है. मौत के कारण के बारे में विस्तृत जानकारी पोस्टमार्टम के बाद ही होगी.

इस अस्पताल में बायो मेडिकल वेस्ट का सही तरीके से नहीं हो पा रहा निपटारा

इस बारे में झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि वैक्शीनेशन का मौत से कोई कनेक्शन नहीं है. उसे शीशी से कोविशिल्ड का पहला डोज दिया गया था. जिसका बैच नंबर 4120Z010, मैन्यूफैक्चरिंग डेट 1 नवंबर 2020 और एक्सपायरी डेट 29 अप्रैल 2021 थी. उन्होंने कहा कि उसी शीशी से नौ और लोगों को भी डोज दिया गया. वैक्शीनेशन के बाद और किसी के साथ कुछ नहीं हुआ. अस्पताल के 351 लोगों को अब तक टीका लगाया जा चुका है और सभी अच्छा काम कर रहे हैं. 

रांची: सेवा समिति की तरफ से गरीबों के लिए भोजन सेवा, 10 रूपए में मिलेगी 6 रोटी

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि वैक्सीन पूरी तरह से सेफ है और लोगों से अपील है कि वे अफवाहों में न आएं. मृतक पाहन की पत्नी सीमा देवी ने कहा कि मौत की सही वजह का पता लगाया जाना चाहिए क्योंकि अभी भी बहुत से लोगों को टीका लगाया जाना है. सीमा ने ये भी बताया कि अगर उनके पति किसी बीमारी से पीड़ित तो उनको इसके बारे में पता नहीं था.

रांची: मनरेगा की मज़दूरी दर बढ़ाने की अपील, राज्य सरकार ने केंद्र को लिखा पत्र

बता दें कि मन्नू पाहन रांची से सटे ओरमांझी प्रखंड के कोयिलारी गांव का रहने वाला था. अचानक बुधवार सुबह उसकी तबीयत खराब होने लगी. इलाज के लिए उसे अस्पताल लाया गया. वहां डॉक्टरों ने जांच की तो मौत की पुष्टि की. अस्पताल प्रबंधन ने बताया कि मन्नू पाहन मृत ही अस्पताल लाए गए थे.

रांची: लाइट हाउस प्रोजेक्ट का विरोध, निरीक्षण टीम को लोगों ने बनाया बंधक

अन्य खबरें