रांची नगर निगम 200 करोड़ के जारी करेगा म्युनिसिपल बॉन्ड, विकास में आएगी तेजी

Smart News Team, Last updated: 23/02/2021 02:51 PM IST
  • रांची नगर निगम म्युनिसिपल बॉन्ड के जरिए 200 कराेड़ रुपए जुटाएगा. वहीं इस राशि से झारखंड की राजधानी के विकास कार्यों में तेजी लाई जाएगी. लोगों की सुविधाओं के लिए शाॅपिंग माॅल और पार्किंग पर बॉन्ड की रकम को खर्च किया जाएगा.
रांची नगर निगम 200 करोड़ का म्युनिसिपल बांड जारी करेगा.

रांची. रांची नगर निगम ने म्युनिसिपल बॉन्ड के जरिए 200 करोड़ रुपए जुटाने का फैसला किया है. निगम बॉन्ड को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध कराएगा. रांची नगर निगम इस राशि को लोगों की सुविधाओं पर खर्च करेगा. निगम के अनुसार इससे शॉपिंग मॉल और पार्किंग आदि बनाए जाएंगे. साथ ही झारखंड की राजधानी में ट्रैफिक को सुगम बनाया जाएगा.

झारखंड में पहली बार ऐसा होने जा रहा है जब कोई नगर निगम पैसे जुटाने के लिए बॉन्ड जारी करेगा. रांची नगर निगम के नगर आयुक्त ने नगर विकास विभाग के साथ एक बैठक की है. इसके बाद जल्दी ही अगली बैठक में तय किया जाएगा कि इस बॉन्ड को लेकर ब्याज की दर क्या होगी और कितने रुपए के बॉन्ड बनाए जाएंगे.

रांची नगर निगम आयुक्त मुकेश कुमार ने बताया कि पांच महीने के अंदर निगम का बॉन्ड जारी कर दिया जाएगा और ऐसा होने पर केंद्र सरकार भी निगम को 26 करोड़ रुपए देगी. केंद्र सरकार 100 करोड़ रुपए के म्यूनिसिपल बॉन्ड पर 13 करोड़ रुपए नगर को देती है. 

प्यार में मिला धोखा तो बन गया बेवफा चाय वाला, सिंगल लोगों को मिलती है छूट

रांची नगर निगम की रेटिंग अभी ट्रिपल बी की है. वहीं इस बॉन्ड के जारी होने के बाद नगर निगम बाजार से 200 करोड़ रुपए जुटाकर राजधानी के विकास कार्य में तेजी लाएगा. वहीं पूंजी बाजार नियामक सेबी ने शहरी नगर निकायों और नगर निगम को म्युनिसिपल बॉन्ड जारी करने की परमिशन 2015 में दी थी. वहीं इसके तहत निकाय और निगम बॉन्ड जारी कर सकते हैं जिनकी नेटवर्थ लगातार तीन फाइनेंशियल सालों तक नेगेटिव नहीं रही हो. 

म्युनिसिपल बॉन्ड एक तरह का लेटर ऑफ क्रेडिट होता है. इसके तहत आम लोगों और संस्थाओं से पैसे जुटाए जाते हैं और बॉन्ड जारी करने वाली संस्था एक निर्धारित समय के लिए रकम उधार लेतदी है. वहीं इस रकम को निश्चित रिटर्न के साथ वापस करने की गारंटी भी देती है. 

बिहार में प्रेम की पाठशाला, लवगुरु मटुकनाथ खोलेंगे ओशो के नाम पर इंटरनेशनल स्कूल

बॉन्ड में निवेश करने वालों को लंबे समय में एक निर्धारित रिटर्न तो मिलता ही है साथ ही इनकम टैक्स में भी छूट मिलती है. शेयर बाजार में सूचीबद्ध होने के बाद आम लोग एक्सचेंज के जरिए इसमें निवेश करते हैं. म्युनिसिपल बॉन्ड पर निवेशक को मिलने वाले रिटर्न पर टैक्स नहीं लगता है. इन बॉन्ड की रेटिंग एजेसिंयां जारी करती हैं. इसलिए इन्हें सुरक्षित निवेश भी माना जाता है. जिसे लोग सीधे नगर निगम या बैंक से लेते हैं. वहीं कई लोग बॉन्ड फंड के जरिए भी म्युनिसिपल में भी निवेश करते हैं. बॉन्ड लेने की प्रक्रिया की घोषणा नगर निगम द्वारा ही की जाती है. 

जेडीयू ने दिया अयोध्या राम मंदिर निर्माण के लिए दान, RCP सिंह ने सौंपा चेक 

अन्य खबरें