रांची यूनिवर्सिटी: एग्जाम बोर्ड का फैसला, UG-PG के छात्र बिना परीक्षा होंगे पास

Smart News Team, Last updated: Mon, 8th Mar 2021, 9:21 AM IST
  • रांची यूनिवर्सिटी में यूजी-पीजी के 32 हजार छात्रों को बिना परीक्षा के अगले सेमेस्टर में प्रमोट किया जाएगा. एग्जाम बोर्ड ने शनिवार को बैठक में मिड सेमेस्टर परीक्षाओं के आधार पर इन छात्रों को पास करने का फैसला लिया. हालांकि लॉ और मेडिकल के छात्रों को प्रमोट होने के लिए परीक्षा देनी होगी.
रांची यूनिवर्सिटी कर रही ऑफलाइन क्लास शुरू करने की तैयारी, सरकार के आदेश का इंतज़ार

रांची. रांची यूनिवर्सिटी में यूजी-पीजी के 32 हजार छात्रों को अगले सेमेस्टर में प्रमोट होने के लिए इस साल परीक्षा नहीं देनी होगी. इन छात्रों में से स्नातक के 2018-21 सत्र के 26 हजार बच्चों को एवं पीजी के 2019-21 सत्र के 6 हजार बच्चों को परीक्षा के बिना ही अगले सेमेस्टर में प्रमोट किया जाएगा. हालांकि यह फैसला लॉ और मेडिकल के स्टूडेंट्स के लिए लागू नहीं होगा और उन्हें प्रमोट होने के लिए परीक्षाएं देनी होगीं.

यह फैसला शनिवार को हुई एग्जाम बोर्ड की बैठक में लिया गया. इस फैसले के तहत ऑनलाइन मिड सेमेस्टर परीक्षाओं के आधार पर स्नातक व पीजी के कला, विज्ञान एवं वाणिज्य स्टीम के 32 हजार बच्चों को बिना परीक्षा लिए पास किया जाएगा. एग्जाम बोर्ड की यह बैठक प्रभारी वीसी डॉ. कामिनी कुमार की अध्यक्षता में पूरी हुई. जिसमें मिड सेमेस्टर के आधार पर अगले सेमेस्टर में छात्रों को प्रमोट करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई.

झारखंड: स्कूलों को कितने बच्चे आ रहे हैं कि देनी होगी रिपोर्ट, जानें पूरा मामला

इस फैसले को लेकर पीआरओ डॉ. पीके झा का कहना है कि यूजीसी की कोविड-19 महामारी को लेकर जारी गाइडलांइस के अनुसार यह फैसला एग्जाम बोर्ड ने लिया. एग्जाम बोर्ड के फैसले के अनुसार रांची यूनिवर्सिटी के लॉ और मेडिकल के छात्रों को यह राहत नहीं दी जाएगी. उन्हें परीक्षाएं देने के बाद प्रमोट किया जाएगा. एमबीएस की परीक्षाएं एमसीआई की गाइडलाइंस के अनुसार ली जाएंगी

पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान धोनी को गो-पालन में मिला नंबर वन अवार्ड

इस बैठक में विश्वविद्यालय ने कोविड काल के पहले नकल करने के लिए निष्कासित बच्चों का मामला भी सामने रखा. ये छात्र फाइनल सेमेस्टर एनटीवीएस फर्स्ट प्रोफेसनल परीक्षा में एनाटॉमी के पेपर में नकल करने के लिए निष्कासित किए गए थे. निष्कासित छात्र ब्लूटूथ के माध्यम से नकल करते हुए पकड़े गए थे. बोर्ड ने इन्हें पूरक परीक्षा में शामिल करने का निर्णय लिया है.

रांची सर्राफा बाजार में सोना-चांदी की रफ्तार थमी, सब्जी मंडी थोक रेट

अन्य खबरें