झारखंड के साहित्यकार रणेंद्र कुमार को मिला श्रीलाल शुक्ल साहित्य सम्मान

Smart News Team, Last updated: Sun, 31st Jan 2021, 4:46 PM IST
  • वरिष्ठ साहित्यकार रणेंद्र कुमार को श्रीलाल शुक्ल स्मृति इफको साहित्य सम्मान से सम्मानित किया गया. रविवार को मोरहाबादी स्थित आर्यभट्ट सभागार में मुख्य अतिथि डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ एसएन मुंडा, वरिष्ठ साहित्यकार डॉ रविभूषण डॉ अशोक प्रियदर्शी ने रणेंद्र कुमार को सम्मान प्रदान किया.
रणेंद्र कुमार श्रीलाल शुक्ल साहित्य सम्मान पाने वाले झारखंड के पहले साहित्यकार हैं. (प्रतिकात्मक फोटो)

रांची- झारखंड के वरिष्ठ साहित्यकार रणेंद्र कुमार को श्रीलाल शुक्ल स्मृति इफको साहित्य सम्मान से सम्मानित किया गया. बताते चलें कि रविवार को मोरहाबादी स्थित आर्यभट्ट सभागार में मुख्य अतिथि डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ एसएन मुंडा, वरिष्ठ साहित्यकार डॉ रविभूषण डॉ अशोक प्रियदर्शी ने रणेंद्र कुमार को सम्मान प्रदान किया. सम्मान स्वरूप उन्हें प्रशस्ति पत्र के अलावा स्मृति चिन्ह और 11 लाख रुपए की राशि प्रदान की गई.

आपको बताते चलें कि रणेंद्र कुमार श्रीलाल शुक्ल साहित्य सम्मान पाने वाले झारखंड के पहले साहित्यकार हैं. सम्मान समारोह के बाद जाने-माने एंकर इरफान के साथ उनका रूबरू सेशन हुआ. इसमें उन्होंने अपने साहित्यिक सफर के बारे में बताया.

रांची: स्वच्छ सर्वेक्षण-2021 में टॉप-20 शहरों में आने का लक्ष्य तय, निगम तैयार

इफको के मैनेजिंग डायरेक्टर और CEO डॉ यूएस अवस्थी ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि ' आज राँची में लेखक एंव कथाकार श्री रणेन्द्र जी को वर्ष 2020 का श्रीलालशुक्ल स्मृति इफको साहित्य सम्मान दिया गया. श्री रणेन्द्र जी का लेखन आदिवासी जीवन को समर्पित है. उन्हें हार्दिक बधाई. इफको साहित्य व कला को प्रोत्साहन देती हैं. इस श्रंखला में सम्मानित होने वाले दसवें साहित्यकार.' गौरतलब है कि रणेंद्र कुमार श्रीलाल शुक्ल साहित्य सम्मान पाने वाले झारखंड के पहले साहित्यकार हैं.

रांची: 24 घंटे में निगम करेगा सील, 06512200011 पर दें अवैध निर्माण की जानकारी

रांची सर्राफा बाजार में सोने में आई कमी चांदी में 1090 रुपए आया उछाल, आज का भाव

पेट्रोल डीजल आज 31 जनवरी का रेट: रांची, धनबाद, जमशेदपुर, बोकारो में नहीं बढ़े दाम

झारखंड में रेप की घटना बढ़ रही है, सरकार चिर निद्रा में सोई हुई है: लाल सिंह

झारखंड: हेमंत सोरेन सरकार डोमिसाइल नीति- प्राइवेट नौकरी में 75% लोकल आरक्षण

अन्य खबरें