झारखंड सरकार के खर्चे पर 6 होनहार आदिवासी बच्चे ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में करेंगे पढ़ाई

Somya Sri, Last updated: Wed, 22nd Sep 2021, 12:29 PM IST
  • झारखंड के 6 आदिवासी छात्र इंग्लैंड के ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी से उच्च शिक्षा ग्रहण करेंगे. जिनकी पढ़ाई की पूरी खर्च हेमंत सोरेन सरकार उठाएगी. इन छात्रों का चयन राज्य सरकार की मरांग गोमके जयपाल सिंह मुंडा पारदेशीय छात्रवृत्ति योजना के तहत किया जाएगा.
झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (फाइल फोटो)

रांची: झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने प्रदेश के 6 आदिवासी छात्रों के पढ़ाई का खर्च उठाने का फैसला लिया है. ये 6 आदिवासी छात्र इंग्लैंड के ऑक्सफर्ड यूनिवर्सिटी से उच्च शिक्षा ग्रहण करेंगे. जिनकी पढ़ाई की पूरी खर्च हेमंत सोरेन सरकार उठाएगी. इन छात्रों का चयन राज्य सरकार की मरांग गोमके जयपाल सिंह मुंडा पारदेशीय छात्रवृत्ति योजना के तहत किया जाएगा. हालांकि अबतक चयनित 6 छात्रों की जानकारी सरकार की ओर से साझा नहीं की गयी है. कहा जा रहा है कि 23 सितंबर को प्रदेश सरकार एक कार्यक्रम को आयोजित कर चयनित आदिवासी छात्रों की जानकारी साझा कर सकतें हैं.

मालूम हो इस योजना की शुरुआत पिछले साल की गई थी. देश में झारखंड ऐसा पहला राज्य है जो आदिवासी विद्यार्थियों को मरांग गोमके जयपाल सिंह मुंडा पारदेशीय छात्रवृत्ति योजना के अंतर्गत ऑक्सफर्ड और कैंब्रिज जैसे प्रतिष्ठित विदेशी यूनिवर्सिटी में उच्च शिक्षा लेने का मौका देती है. इस योजना के तहत एससी-एसटी वर्ग के करीब 10 विद्यार्थियों का चयन किया जाता है. जो विद्यार्थी इस योजना के तहत चयनित किए जाते हैं उनका ग्रेजुएशन में कम से कम 55 फ़ीसदी अंक होना अनिवार्य है. आवेदक की आयु 40 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए. आवेदक झारखंड का ही निवासी होना चाहिए. साथ ही अनुसूचित जाति या अनुसूचित जनजाति का प्रमाण पत्र भी होना चाहिए. इसके अलावा आवेदन करने वाले छात्रों की वार्षिक आय 12 लाख रुपए प्रति वर्ष से कम होनी चाहिए.

हावड़ा-रांची स्‍पेशल ट्रेन के स्‍टेशन में बदलाव, अब खड़गपुर स्‍टेशन से चलकर रांची पहुंचेगी यह ट्रेन

जेएमएम के महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि झारखंड से ऑक्सफोर्ड पहुंचने वाले राज्य के मरांग गोमके जयपाल सिंह मुंडा पहले स्टूडेंट्स थे. उनकी शताब्दी वर्ष पर यह बेहतर शुरुआत है. यह देश स्तर का एक बेंच मार्क है. उन्होंने कहा कि रघुवर सरकार के कार्यकाल के दौरान उच्च और तकनीकी संस्थानों में एससी-एसटी के छात्र के स्टाइपेंड को भी रोक दिया गया था. लेकिन हेमंत सोरेन की सरकार इन्हें पढ़ाने के लिए विदेश भेज रही है. उन्होंने कहा कि बीजेपी के नेता बस लंबी लंबी बातें करते हैं.

अन्य खबरें