रांची से बिहार जा रही 2 बसें जब्त, आपदा एक्ट के तहत ड्राइवर के खिलाफ केस दर्ज

Smart News Team, Last updated: 10/06/2021 10:13 PM IST
  • कोरोना महामारी की जारी दूसरी लहर के बीच लोग लॉकडाउन की गाइडलाइन का उल्लंघन करने से बाज नहीं आ रहे हैं. दरअसल लॉकडाउन के नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए रांची से बिहार जा रही दो बसों को ओरमांझी के पास जब्त कर लिया गया है. बसों के ड्राइवर और संचालक के खिलाफ आपदा एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है.
रांची से बिहार जा रही दो बसों को ओरमांझी में जब्त किया गया है

लॉकडाउन के नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए रांची से बिहार जा रही दो बसों को गुरुवार को ओरमांझी के पास जिला प्रशासन की टीम ने जब्त कर लिया है. आरटीए सचिव निरंजन कुमार, जिला परिवहन पदाधिकारी ने दोनों बसों को जब्त कर ओरमांझी थाने को सौंप दिया. बसों के संचालक और ड्राइवर के खिलाफ आपदा एक्ट के तहत मामला भी दर्ज किया गया है.

आरटीए सचिव निरंजन कुमार ने बताया कि उन्हे काफी समय से सूचना मिल रही थी कि कुछ बसें चुपचाप बिहार और यूपी जा रही हैं. गुरुवार को मिली सूचना के बाद एक टीम बना कर बसों की जांच के लिए एनएच पर नाकेबंदी की गई. ओरमांझी के पहले कैमूर किंग और टूरिस्ट धीरज नाम की बस को पकड़ा गया. एक बस को पहले पकड़ा गया. 

बता दें कि पहली बस के चालक से पूछताछ की जा रही थी. इसी बीच पीछे से आ रही दूसरी बस ने जांच टीम को देख लिया और वह बस को बैक कर भागने लगा. इसके बाद टीम ने बस का पीछा कर पकड़ लिया. बस में सवार यात्रियों को उतार दिया गया. बुधवार को भी बनारस जा रही जनता बस को ओरमांझी के पास पकड़ा गया था.

तमिलनाडु से वापस लाई गईं जबरन बंधवा मजदूरी कर रहीं झारखंड की 8 बेटियां

जानकारी के मुताबिक अनलॉक वन के बाद से ही कुछ बसें बिहार जा रही थीं. इन बसों को कहीं रोका भी नहीं जा रहा था. इसके बाद बुधवार से ही बसों के खिलाफ देर रात अभियान चलाया गया. इसमें ओरमांझी के पास जनता बस पकड़ी गयी. जानकारी के अनुसार बस संचालक और एजेंट फोन से बसों की बुकिंग कर रहे हैं.

हॉर्स ट्रेडिंग केस में पूर्व CM रघुवर की बढ़ेंगी मुश्किलें! ACB कोर्ट में सुनवाई

 बुकिंग के बाद यात्रियों बस खुलने के एक घंटे पहले बता दिया जाता है कि बस कहां पकड़नी है. जिन यात्रियों के पास कोई साधन नहीं रहता उन्हें बस स्टैंड बुलाकर ऑटो से एनएच के पास ले जाया जाता है. इसके बाद बसों पर यात्रियों को सवार कर भेजा जाता है. पिछले साल के लॉकडाउन में एक दर्जन से अधिक बसों के खिलाफ कार्रवाई की गयी थी.

अन्य खबरें