सेना में भर्ती के नाम पर लेते थे 5 लाख, आर्मी की तरह कराते थे मेडिकल और देते लेटर

Smart News Team, Last updated: Thu, 26th Aug 2021, 4:15 PM IST
  • सेना में भर्ती कराने के नाम पर करोड़ों की ठगी करने के मामले में काफी समय से फरार चल रहे शौकत अली को पुलिस ने आर्मी इंटेलिजेंस की निशानदेही पर गिरफ्तार कर लिया. शौकत अली सेना में इंस्पेक्शन बंग्लो में कुक का काम करता था. जिसके बाद वो पंकज के साथ मिलकर सेना में बहाली के नाम पर युवाओं से ठगी करने लगा.
प्रतीकात्मक फोटो

रांची. सेना में भर्ती कराने के नाम पर ठगी करने के मामले में काफी समय से फरार चल रहे आरोपी शौकत अली को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने यह गिरफ्तारी 17 कोर आर्मी इंटेलिजेंस नामकुम की सूचना के आधार पर की. इससे पहले भी इस मामले में युवकों से आर्मी में बहाली के नाम पर करोड़ों की ठगी करने वाले इस गिरोह के सरगना पंकज कुमार सिंह समेत पुलिस तीन लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है. गिरफ्तारी के बाद पंकज ने बताया कि वो बहाली के नाम पर ठगी करने वाले युवकों का मेडिकल करवाने से लेकर ज्वाइनिंग लेटर देने तक सेना की तरह ही काम करता था. वहीं, इस मामले में पुलिस अन्य फरार चल रहे आरोपियों की तलाश में लगातार छापे मारी कर रही है.

जम्मू के युवक से ठगी का मामला सामने आने के बाद हुई कार्रवाई

इस मामले का खुलासा तब हुआ, जब जम्मू में एक फोटो स्टूडियो में काम करने वाले बलबीर सिंह का मामला सामने आया. बलबीर ने सेना में अपने रिश्तेदारों की भर्ती के नाम पर 12 लाख रुपये रांची आकर पंकज को दिए और साथ में शैक्षणिक प्रमाण पत्र भी दिए. जिसके बाद पंकज ने बलबीर से बात करना बंद कर दिया और उसे टहलाने लगा. बलबीर फिर रांची आया लेकिन पंकज ने मिलने से मना कर दिया. तब उसे अपने साथ ठगी का एहसास हुआ.

राजेश ठाकुर बने झारखंड कांग्रेस प्रेसिडेंट, गीता, बंधु, जलेश्वर, शहजादा कार्यकारी अध्यक्ष

सेना की इंटेलिजेंस टीम को दी जानकारी

बलबीर ने इस मामले की जानकारी सेना की इंटेलिजेंस टीम को दी, जिसके बाद मामला सामने आया और पंकज को पुलिस ने गिरफ्तार किया. बलबीर के अनुसार, उसे तभी संदेह हो गया था, जब पंकज ने गुरुटोली के एक मकान में सेना के फर्जी अधिकारी भेजकर सभी का मेडिकल करवाया. जब उससे बंद कमरे में मेडिकल करवाने का कारण पूछा तो वो कहने लगा कोरोना की वजह से बंद कमरे में किया जा रहा है.

अन्य खबरें