रांची में बिना ग्रांटर के नहीं ले सकेंगे किराए पर मकान, यहां जाने पूरी डिटेल्स

Smart News Team, Last updated: Fri, 22nd Jan 2021, 6:32 PM IST
  • अब किरायेदारों को आईडी कार्ड के साथ गारंटर का नाम भी देना होगा. अगर गारंट का नाम नहीं दिया, तो जहां काम करते हैं उस कम्पनी का नाम या पहचान देनी होगी. रांची पुलिस ने किरायेदारों के लिए एक फॉर्म जारी किया है जिसमें गारंटर का नाम, पता और फोटो और पहचान अनिवार्य रूप से देना होगा.
रांची में बिना ग्रांटर के नहीं ले सकेंगे किराए पर मकान, यहाँ जाने पूरी डिटेल्स

रांची: झारखंड के रांची शहर में अब किराए पर मकान लेना आसान नहीं रहा. शहर में हो रही आपराधिक घटनाओं की जांच करने पर पता चला है कि ज़्यादातर अपराधी किराए पर मकान ले कर रहते हैं. इसलिए अब किरायेदारों को आईडी कार्ड के साथ गारंटर का नाम भी देना होगा. अगर गारंट का नाम नहीं दिया, तो जहां काम करते हैं उस कम्पनी का नाम या पहचान देनी होगी. रांची पुलिस ने किरायेदारों के लिए एक फॉर्म जारी किया है जिसमें गारंटर का नाम, पता और फोटो और पहचान अनिवार्य रूप से देना होगा.

रांची पुलिस ने शहर के मकान मालिकों को भी बिना ग्रांटर के मकान किराए पर देने से मना किया है. पुलिस की ओर से जारी फॉर्म 26 जनवरी के बाद से सभी थानों में आसानी से मिल जाएगा. फॉर्म मकान मालिको को भी दिए जाएंगे. फार्म में मकान मालिक अपना तथा किराएदार को पूरा डिटेल अंकित करेंगे। साथ ही आधार कार्ड और पहचान पत्र की फोटो कॉपी भी फार्म के साथ लगानी होगी. किराएदार के घर के मुखिया की तस्वीर भी चिपकानी होगी। इसके अलावा घर के सदस्यों के नाम और उम्र भी अंकित करना होगा.

रेल ट्रैक बदलने में अब नहीं होगी परेशानी, बटन दबाते ही बदल जायेगा ट्रैक

रांची पुलिस की तरफ से किराएदारों के सत्यापन योजना को बीट पुलिसिंग से लिंक किया जा रहा है. थानों में तैनात बीट पुलिस को उनका क्षेत्र बांटा जाएगा. सभी अपने अपने क्षेत्रों के किरायेदारों का वेरिफिकेशन करेंगे तथा फार्म भरवाकर उसे थाना में जमा करेंगे. हर बीट पुलिस को एक-एक मोबाइल नंबर भी दिया जाएगा. यह नंबर सार्वजनिक किया जाएगा, ताकि लोग किसी तरह की समस्या होने पर उस नंबर पर सूचना दे सकें. 

लालू यादव के जेल मैनुअल उल्लंघन पर एसओपी कोर्ट में पेश करे जेल प्रशासन: हाईकोर्ट

पुलिस के अनुसार इस नई व्यवस्था से किरायेदार बनकर रहते हैं अपराधी अपराधी किराए के मकान में नहीं रह पाएंगे, साथ आपराधिक घटनाओं पर भी लगाम लगेगा. रांची पुलिस की जांच में यह बात सामने आयी है कि ज्यादातर आपराधिक घटनाओं को अंजाम देने वाले अपराधी किराए का मकान लेकर रहते हैं और आपराधिक घटनाओं को अंजाम देकर फरार हो जाते हैं. यहां तक कि कई पीएलएफआई उग्रवादी को भी पुलिस ने किराए के मकान से ही दबोचा है.

 

अन्य खबरें