Chhat Puja 2020: नहाय खाय से होती है छठ पूजा की शुरुआत, जानें क्या है मान्यता

Smart News Team, Last updated: Mon, 16th Nov 2020, 7:27 PM IST
  • कार्तिक छठ पूजा 18 नवंबर से शुरू हो रही है जो 21 नवंबर को खत्म होगा. छठ पूजा की शुरुआत नहाय खाय से होती है, इस दिन भी काफी नियम से पूजा करके भोजन किया जाता है.
नहाय खाय से होती है छठ पूजा की शुरुआत

आस्था औऱ श्रद्धा का महापर्व छठ हिन्दुओं का खास त्योहार है. खासकर बिहार में इसे लेकर अलग ही उत्साह देखने को मिलती है. बिहार में कई महीने पहले से ही इसकी तैयारी शुरू हो जाती है. इस बार कार्तिक छठ पूजा 18 नवंबर से शुरू हो रही है जो 21 नवंबर को खत्म होगा. छठ पूजा की शुरुआत नहाय खाय से होती है, इस दिन भी काफी नियम से पूजा करके भोजन किया जाता है. वैसे हर दिन नहाकर खाना चाहिए लेकिन छठ पूजा के नहाय खाय का अलग ही महत्व है.

नहाय खाय के नियम

18 नवंबर (पहला दिन)- छठ पूजा के पहले दिन को नहाय खाय के नाम से जाना जाता है. इसमें घर की साफ-सफाई पूरी तरह से की जाती है और अगले तीन दिनों तक मांसहारी भोजन पर पूरी तरह से प्रतिबंध होता है. नहाय खाय के दिन अरवा चावल, लौकी की सब्जी और अन्य कई तरह के भोजन बनाए जाते हैं. इसे भोग लगाकर प्रसाद के रूप में ग्रहण किया जाता है.

गोविंददेव जी मंदिर में सुनहरे दिखे ठाकुर जी, प्रांगण में सजी अन्नकूट की झांकी

दीवाली के छह दिन बाद से ही छठ पूजा की शुरुआत होती है. सूर्य देव की अराधना वाला ये पर्व एक उत्सव के तौर पर पूरे चार दिनों तक मनाया जाता है. जिसकी शुरुआत कार्तिक शुक्ल चतुर्थी से होती है और कार्तिक शुक्ल सप्तमी को खत्म होती है. इन चार दिनों के पर्व में लोग उल्लास के साथ मनाते हैं.

अन्य खबरें