Chhath Puja 2021: सिर्फ छठ पर ही नहीं बल्कि रोजाना सूर्य को अर्घ्य देने के हैं कई फायदे

Pallawi Kumari, Last updated: Tue, 9th Nov 2021, 11:31 AM IST
 छठ पर्व की शुरुआत 8 नवंबर से हो चुकी है और आज खरना पूजा किया जाएगा. खरना के बाद कल 10 नवंबर को डूबते सूर्य और 11 को उगते सूर्य को अर्घ्य देने के बाद छठ का समापन होगा. छठ पूजा में सूर्य देव को अर्घ्य देने का खास महत्व होता है. लेकिन सिर्फ छठ पर ही नहीं बल्कि रोजाना सूर्य को अर्घ्य देने कई फायदे हैं,
रोजाना सूर्य को अर्घ्य देने के कई फायदे.

लोक आस्था का महापर्व छठ पूजा में छठी मईया और सूर्य देव की उपासना की जाती है. चार दिन तक चलने वाले इस पर्व में नहाय खाय और खरना के बाद डूबते और उगते सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा है. छठ अकेला ऐसा त्योहार है, जिसमें उगते सूर्य के साथ साथ डूबते यानी अस्त होते सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि सिर्फ छठ पर ही नहीं बल्कि रोजाना सूर्य देव को जल चढ़ाते हुए अर्घ्य देना चाहिए. सूर्य देव को रोजाना जल चढ़ाने की परपंरा आज से नहीं बल्कि प्राचीनकाल के समय से चली आ रही है. 

रोजाना सूर्य को जल चढ़ाने के ना सिर्फ धार्मिक बल्कि कई वैज्ञानिक फायदे भी है. आपको ये जानकर हैरानी होगी कि सूर्य को जल चढ़ाने से कई बीमारियां भी दूर होती है. आइये आपको बताते हैं रोजाना सूर्यदेव को जल चढ़ाने या अर्घ्य देने के फायदे.

Chhath Puja 2021: जानी-अनजानी भूल-चूक के लिए छठी मईया से मांगे माफी, इस क्षमायाचना मंत्र का करें जाप

  1. नौकरी में मिलता है लाभ-सूर्यदेव को जल चढ़ाने से आत्मविश्वास बढ़ता है, जो नौकरी पेशा करने वालों को तरक्की की ओर ले जाता है.

2.त्वचा संबंधी रोग से मिलता है निजात-कहा जाता है कि कृष्ण के पुत्र सांबा को कुष्ठ रोग होने पर सूर्य देव की उपासना करने को कहा गया था

3. नेत्र रोग में लाभप्रद-जिस व्यक्ति की जन्मपत्री में सूर्य लग्न 12 वें या दूसरे स्थान पर होता है उन्हें नेत्र संबंधी रोग की आशंका होती है. इसलिए ऐसे व्यक्ति को रोजाना सूर्य को जल चढ़ाना चाहिए

4.ह्दय रोग से मिलती है मुक्ति-सूर्य का सीधा संबंध ह्दय से होता है. ह्दय को स्वस्थ्य रखने के लिए रोजाना सूर्य को जल चढ़ाना चाहिए.

कैसे दें सूर्य को अर्घ्य

सुबह उठकर नहाने के बाद सूर्य देव को तांबे के कलश या किसी बर्तन से जल अर्पित करना चाहिए.

सूर्य देव को जल चढ़ाने से पहले चुटकी भर लाल रंंग या कुकुम और लाल फूलों के साथ जल अर्पित करें.

सूर्य देव को जल चढ़ाते समय 11 बार ओम सूर्याय नम: का जाप करना चाहिए.

Chhath Puja 2021: छठ पूजा के दौरान न करें ये गलतियां, वरना छठी मईया हो जाएगी नाराज

अन्य खबरें