सरकारी नौकरी चाहने वालों को तम्बाकू का सेवन पड़ेगा मँहगा

Smart News Team, Last updated: 03/12/2020 12:01 AM IST
  • नौकरी के लिए नियुक्ति पत्र प्राप्त करने से पहले सभी अभ्यर्थियों को यह शपथपत्र देना होगा. वहीं बिना लाइसेंस के चोरी छिपे गुटखा तम्बाकू बेचने वालों की दुकानों पर कार्यवाही की जाएगी.
झारखंड सरकार के नए नियमों के अनुसार सरकारी नौकरी करने वालों को अब तंबाकू उपयोग नहीं करेंगे

रांची. सरकारी नौकरी चाहने वालों को अब तम्बाकू का सेवन छोड़ना पड़ेगा.झारखंड सरकार के नए नियमों के अनुसार सरकारी नौकरी करने वालों को अब तंबाकू उपयोग नहीं करने का शपथपत्र देना होगा. अगले वर्ष पहली अप्रैल से होनेवाली सभी नौकरियों में इसे अनिवार्य रूप से लिया जाएगा. नियुक्त पत्र प्राप्त करने से पहले सभी अभ्यर्थियों को यह शपथपत्र देना होगा. वहीं बिना लाइसेंस के चोरी छिपे गुटखा तम्बाकू बेचने वालों की दुकानों पर कार्यवाही की जाएगी. इसके लिए लाइसेंस होना अनिवार्य होगा. इसके अलावा शैक्षणिक संस्थानों के 100 गज के दायरे में तम्बाकू बिक्री पर प्रतिबंध सहित उद्योगों व कंपनियों के मुख्य द्वार पर भी तम्बाकू मुक्त क्षेत्र का बोर्ड लगाना होगा. वहीं सरकार द्वारा ग्रामीण स्तर पर तम्बाकू हेतु जागरूकता भी फैलाई जाएगी. मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हुई राज्य तंबाकू नियंत्रण समन्वय समिति की बैठक में इस संबंध में निर्णय लिया गया.

मंगलवार को हुई बैठक में मुख्य सचिव सुखदेव सिंह ने पान, सिगरेट व तंबाकू उत्पाद बेचने वालों को हर हाल में लाइसेंस लेने के प्रावधान का सख्ती से अनुपालन कराने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि बिना लाइसेंस कोई दुकान संचालित नहीं होगी. इसके अलावा मुख्य सचिव ने कहा कि लाइसेंस लेने वाली ऐसी दुकानों में बिस्किट, चॉकलेट एवं अन्य खाद्य पदार्थ की बिक्री नहीं होनी चाहिए. उन्होंने स्वास्थ्य तथा शिक्षा विभाग के अधिकारियों को शैक्षणिक संस्थानों के 100 गज के दायरे में तंबाकू उत्पादों की बिक्री पर प्रतिबंध का भी सख्ती से अनुपालन कराने और सरकारी भवनों को तंबाकू मुक्त सुनिश्चित करने को कहा.

ट्रिपल आईटी के भूमि अधिग्रहण का विरोध करेगी संघर्ष समिति

 इसके अलावा उद्योग विभाग को उद्योगों व अन्य कंपनियों के मुख्य द्वार एवं अन्य क्षेत्रों में तंबाकू मुक्त क्षेत्र तथा गैर धुम्रपान क्षेत्र का बोर्ड लगाने के निर्देश दिए. मुख्य सचिव ने पंचायती राज विभाग को सभी पंचायत प्रतिनिधियों को पत्र लिखकर ग्राम सभाओं की बैठकों में तंबाकू निषेध पर चर्चा करने का अनुरोध करने को भी कहा.

अन्य खबरें