साल दर साल टेट की परीक्षा आयोजित करें सरकार

Smart News Team, Last updated: Wed, 13th Jan 2021, 7:35 PM IST
शिक्षक प्रशिक्षित अभ्यर्थियों ने झारखंड सरकार से हर साल झारखंड टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट यानी जेटेट को आयोजित कराने की मांग की है. इन भर्तियों का कहना है कि नियमित टेट की परीक्षा कराकर सरकार युवाओं को सरकारी नौकरी देने का चुनावी घोषणा पत्र में किया गया वादा पूरा कर सकती है.
यूपी के विश्वविद्यालयों में प्राइवेट स्नातक डिग्री परीक्षा पर रोक अब व्यक्तिगत परीक्षा देकर डिग्री प्राप्त नहीं कर सकेंगे छात्र

रांची .शिक्षक प्रशिक्षित अभ्यर्थियों ने झारखंड सरकार से हर साल झारखंड टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट यानी जेटेट को आयोजित कराने की मांग की है. इन भर्तियों का कहना है कि नियमित टेट की परीक्षा कराकर सरकार युवाओं को सरकारी नौकरी देने का चुनावी घोषणा पत्र में किया गया वादा पूरा कर सकती है. बता दें कि जब से झारखंड राज्य की स्थापना हुई है तब से राज्य सरकार द्वारा झारखंड टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट परीक्षा अब तक दो बार ही आयोजित कराए जा सके हैं.

 राज्य सरकार की ओर से पहली बार टेट परीक्षा 2013 में तथा दूसरी बार 2016 में आयोजित कराई गई थी. साल दर साल टेट परीक्षा के आयोजन ना होने से ऐसे शिक्षण अभ्यर्थी जो समाज को शिक्षक के रूप में अपना योगदान देना चाहते हैं वह नौकरी से वंचित रह जाते हैं. राज्य के विभिन्न क्षेत्रों के शिक्षक प्रशिक्षित अभ्यर्थियों ने प्रदेश सरकार का ध्यान आकर्षित करने के उद्देश्य से कहा कि निजी विद्यालयों मैं भी शिक्षण कार्य करने के लिए जेटेट की परीक्षा उत्तीर्ण करना अनिवार्य कर दिया है.

झारखंड को मिला 1.62 लाख डोज , 15 दिन बाद आएगी वैक्सीन की दूसरी खेप : बन्ना गुप्त

इस कारण वह प्रशिक्षित होते हुए भी शिक्षण कार्य में अपना योगदान नहीं दे पा रहे हैं. प्रशिक्षित शिक्षण अभ्यर्थियों ने सरकार से मांग की है कि नियमित रूप से टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट परीक्षा आयोजित कर युवाओं को नौकरी प्रदान करने के साथ ही शिक्षण कार्य का स्तर और ऊंचा उठाने में अपनी जिम्मेदारी निभाएं. मांग करने वालों में महिपाल ललन सिंह संशोधन विद्याधर डोमन शैलेंद्र योगेंद्र राकेश दल गोविंद कृष्णा कुणाल जगतपाल रवि विकास विश्वेश्वर विजय कुमार सुमित कुमार जितेंद्र कुमार अमन कुमार कुलदीप कुमार रविंद्र कुमार आदि प्रशिक्षित शिक्षण अभ्यर्थी प्रमुख हैं.

 

अन्य खबरें