Masik Shivratri 2022: क्यों मनाई जाती है मासिक शिवरात्रि, क्या है हर माह शिव पूजा का महत्व

Pallawi Kumari, Last updated: Thu, 20th Jan 2022, 5:39 PM IST
  • हर महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को शिवजी के लिए मासिक शिवरात्रि का व्रत रखा जाता है और पूजा की जाती है. इस समय माघ का महीना चल रहा है. माघ मासिक शिवरात्रि इस बार रविवार 30 जनवरी को मनाई जाएगी. आइये जानते हैं माघ मासिक शिवरात्रि की पूजा विधि, शुभ मुहूर्त और महत्व.
भगवान शिव शंकर

जैसा कि नाम से ही स्पष्ट होता है कि मासिक शिवरात्रि में हर महीने भगवान शिव की पूजा की जाती है. हिंदू कैलेंडर के अनुसार हर माह की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मासिक शिवरात्रि के नाम से जाना जाता है. इस दिन भोलेनाथ और माता पार्वती की पूजा मध्यरात्रि में की जाती है. इस बार माघ मास में पड़ने वाली मासिक शिवरात्रि का व्रत और पूजन रविवार 30 जनवरी को किया जाएगा. आइए जानते हैं मासिक शिवरात्रि का महत्व, शुभ मुहूर्त और पूजन विधि.

मासिक शिवरात्रि का महत्व

शास्त्रों के अनुसार देवी लक्ष्मी, इन्द्राणी, सरस्वती, गायत्री, सावित्री, सीता, पार्वती और रति सभी ने शिवरात्रि का व्रत किया था. इस व्रत को करने से सभी देविओं की मनोकामनाएं पूरी हुई थी. इसके बाद से ही हर माह मासिक शिवरात्रि करने का प्रचलन शुरू हुआ.

Magh 2022: इस दिन है माघ मासिक शिवरात्रि, जानें शुभ मुहूर्त, महत्व और पूजा-विधि

माघ मासिक शिवरात्रि 2022 पूजा के लिए शुभ मुहूर्त-

माघ मासिक शिवरात्रि तिथि- रविवार 30 जनवरी

कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि प्रारंभ- 30 जनवरी सायं 05:28

चतुर्दशी तिथि समाप्त- सोमवार 31 जनवरी अपराह्न 02:18

पूजा के लिए शुभ मुहूर्त- 30 जनवरी, रविवार रात्री 11:38-12:52 तक

मासिक शिवरात्रि पूजा विधि

इस दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान करें और साफ कपड़े पहनें. घर के मंदिर में घी का दीपक जलाएं. अगर घर में शिवलिंग है तो शिवलिंग में गंगा जल, दूध, आदि से अभिषेक करें और बेल पत्र चढ़ाए. या फिर किसी मंदिर में जाकर शिवलिंग पर जलाभिषेक करें. शिवरात्रि के दिन भगवान शिव के साथ उनकी अर्धांगिनी माता पार्वती की भी पूजा करें. इस दिन भोलेनाथ का अधिक से अधिक ध्यान करें और ऊॅं नम: शिवाय मंत्र का जप करें. पूजा के बाद भगवान शिव की आरती करें. रात्रि में फिर से पूजा करें और जागरण करें.

Saraswati Puja: कब है बसंत पंचमी? जानें इस दिन मां सरस्वती की पूजा विधि, नियम और महत्व

 

अन्य खबरें