रांची : लॉकडाउन में छात्रों के पढ़ाई का साथी बना रेडियो खांची

Smart News Team, Last updated: Sat, 13th Feb 2021, 4:28 PM IST
  • लॉकडाउन के समय कोविड-19 के संक्रमण के कारण जब देश भर की शिक्षण संस्थानों और विश्वविद्यालयों तालाबंदी थी, तब रांची विश्वविद्यालय का रेडियो खांची छात्रों की पढ़ाई के लिए उनका सच्चा साथी साबित हुआ. कोरोना महामारी के काल में संचार माध्यमों ने अपनी उपयोगिता बखूबी साबित की.
रेडियो खांची (फाइल तस्वीर)

रांची : झारखंड व बिहार राज्यों के किसी भी सरकारी विश्वविद्यालय में पहली बार रांची विश्वविद्यालय ने गत 8 मार्च 2020 को रेडियो खांची की शुरुआत की. विश्वविद्यालय ने इसका टैग हम सबका रेडियो, रेडियो खांची, दिया है. इसकी स्थापना करने में रांची विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर डॉ रमेश कुमार पांडे व प्रति कुलपति प्रोफेसर कामिनी कुमार की महत्वपूर्ण भूमिका रही. मोरहाबादी के बेसिक साइंस भवन में स्थापित रेडियो खांची 90.4 एफएम का रेंज 12 से 15 किलोमीटर है.

खांची के निदेशक डॉक्टर आनंद कुमार ठाकुर बताते हैं कि लॉकडाउन के दौरान रेडियो कांची प्रतिदिन छात्रों को नवीन सूचनाओं से अपडेट करता रहा. विश्वविद्यालय से संबंधित खबरें व केरियर अपडेट का प्रसारण प्रतिदिन किया जाता है. प्रत्येक सप्ताह मंगलवार बुधवार व शुक्रवार को डॉक्टर्स टाइम का प्रसारण होता है.इसमें 10 श्रोताओं की समस्याओं को सुनते हैं और उनका निराकरण करते हैं. इसके अलावा बातों बातों में कार्यक्रम के तहत समाज के विभिन्न क्षेत्रों की हस्तियों को बुलाकर उनके अनुभव को साझा किया जाता है जिससे छात्रों के व्यक्तित्व का विकास होता है. उन्होंने बताया कि रेडियो पर विश्वविद्यालय संबंधी सूचनाओं के अलावा टीचर रेडियो के माध्यम से छात्रों द्वारा पूछे गए प्रश्नों का जवाब भी देते हैं.

रांची : फटाफट जमीन विवाद निपटायें, जिला विधिक सेवा प्राधिकार के साथ आएं

उन्होंने बताया कि रेडियो पर प्रसारित होने वाले ज्यादातर कार्यक्रम रांची विश्वविद्यालय के छात्रों द्वारा तैयार किए जाते हैं. उन्होंने बताया कि आज के आधुनिक दौर में टेलीविजन मोबाइल व इंटरनेट मीडिया के विभिन्न माध्यम समाज में आ जाने से वीडियो का इस्तेमाल पहले की तुलना में कम हुआ है लेकिन कुछ वर्षों से एक बार फिर से रेडियो अपनी प्रासंगिकता साबित कर रहा है.

 

अन्य खबरें