लॉकडाउन के दौरान आरक्षित टिकट की वापसी को रेलवे ने फिर बढ़ाया समय

Smart News Team, Last updated: Sat, 9th Jan 2021, 5:44 PM IST
  • लॉकडाउन के दौरान रिजर्वेशन टिकट पर पैसा खर्च करने वाले रेल यात्रियों के लिए खुशी की खबर है. भारतीय रेलवे ने अब तक आरक्षित टिकट बुक करा कर पैसा वापस न लेने वाले अपने रेल यात्रियों को पैसा वापस लेने की समय सीमा बढ़ा दी है.
रेलवे ने मार्च माह तक समय सीमा बढ़ाकर पैसा वापसी के लिए ऐसे रेल यात्रियों को एक मौका दिया है.

रांची: आईआरसीटीसी रेलवे की ओर से पहले आरक्षित टिकटों की वापसी के लिए छह माह की समय सीमा निर्धारित की थी. इसके बावजूद अभी भी तमाम रेलयात्री हैं जिन्होंने लॉकडाउन के दौरान यात्रा करने के लिए पहले से ही अपने सीट का रिजर्वेशन करा लिया था. अब आईआरसीटीसी ने आरक्षित टिकटों की वापसी के लिए ऐसे रेल यात्रियों को लॉक डाउन की प्रक्रिया शुरू होने के 9 माह बाद तक अपना पैसा वापस ले लेने की समय सीमा बढ़ाई है. यानी अब ऐसे यात्री मार्च माह तक आरक्षित टिकट के पैसे वापस ले सकते हैं. रेलवे की ओर से बढ़ाई गई समय सीमा का आकलन जुलाई माह से प्रारंभ किया जाएगा. यानी जुलाई से 9 माह बाद आने वाले मार्च माह तक ऐसे यात्री अपने टिकट का पैसा वापस ले सकेंगे.

इस संबंध में मध्य रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी ने बताया कि यात्री हित में रेलवे द्वारा रद्द की गई नियमित ट्रेनों के लिए जारी आरक्षित टिकटों के वापसी के नियमों में फिर से रियायत दी गई है. पहले अगले छह माह तक टिकट का पूरा पैसा प्राप्त करने की सुविधा दी गई थी. इसी कड़ी में 21 मार्च 2020 से 31 जुलाई 2020 तक की यात्रा अवधि वाले आरक्षण टिकट के पूरे पैसा वापस करने के लिए नियमों में रियायत देते हुए आईआरसीटीसी ने 3 माह की और वृद्धि की है.

झारखंड के धनुर्धर अब आधुनिक रिकर्व धनुष से भेदेंगे अपना लक्ष्य

उन्होंने बताया कि यह सुविधा पीआरएस काउंटर द्वारा 31 मार्च 2020 से 31 जुलाई 2020 तक की आबादी के बीच जारी आरक्षित टिकटों पर लागू होगी. ई टिकट कराने वाले के मामले में उनका पैसा स्वत: के वापस हो जाने की व्यवस्था है. उन्होंने बताया कि यात्री अपने टिकटों की जानकारी के लिए आईआरसीटीसी की वेबसाइट और 139 नंबर डायल कर प्राप्त कर सकते हैं.

 

अन्य खबरें