टीचरों और कर्मचारियों की सेवाकाल में 2 साल का विस्तार करेगा रांची विश्वविद्यालय

Smart News Team, Last updated: 14/12/2020 01:24 AM IST
  • साल दर साल रिटायर हो रहे कर्मचारियों के सापेक्ष नियुक्तियां ना होने के कारण रांची विश्वविद्यालय प्रशासन ने अपने कर्मचारियों की सेवाकाल में 2 साल की वृद्धि करने का विचार किया है. कुलपति की अध्यक्षता में आगामी 14 दिसंबर को होने वाली सिंडीकेट बैठक में इस पर अंतिम निर्णय लिया जाएगा.
रांची विश्वविद्यालय प्रशासन ने अपने कर्मचारियों की सेवाकाल में 2 साल की वृद्धि करने का विचार किया

रांची . बता दें कि रांची विश्वविद्यालय में पिछले 12 वर्ष से नए टीचरों की नियुक्ति नहीं हो सकी है. जबकि पिछले 30 सालों से रांची विश्वविद्यालय में किसी भी नए कर्मचारी की भी नियुक्ति नहीं हुई है. इसके सापेक्ष विश्वविद्यालय में तैनात शिक्षक और कर्मचारी अपनी सेवा काल पूरी करके साल दर साल रिटायर होते चले जा रहे हैं. जिसके चलते विश्वविद्यालय में टीचर कर्मचारी और छात्रों की संख्या के अनुपात में भारी अंतर हो गया है.

शैक्षिक और कार्यालय कार्य करने में भी कठिनाई सामने आने लगी है. इन परिस्थितियों को देखते हुए रांची विश्वविद्यालय ने प्रिंसिपल, टीचर और तैनात कर्मचारियों की सेवा काल को 2 साल और बढ़ाए जाने का प्रस्ताव तैयार किया है. इस प्रस्ताव को आगामी 14 दिसंबर को कुलपति डॉ रमेश कुमार पांडे की अध्यक्षता में होने वाली विश्वविद्यालय प्रशासन सिंडीकेट की बैठक में रखा जाएगा. इस बैठक में शिक्षकों एवं कर्मचारियों के 2 वर्ष सेवा विस्तार से संबंधित प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान कर दी जाएगी. बैठक में स्वीकृति मिलने के बाद इस प्रस्ताव को उच्च शिक्षा विभाग को अग्रसारित कर दिया जाएगा.

बादलों से ढकी राजधानी, तीन चार रोज में हो सकती है बारिश

इस संबंध में रांची विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ रमेश कुमार पांडे ने बताया कि टीचरों और कर्मचारियों की कमी की वजह से शिक्षण कार्य सहित कार्यालय के कार्य सुचारु रुप से नहीं चल पा रहे हैं जिसके कारण 2 वर्ष के सेवा विस्तार का यह प्रस्ताव लाना आवश्यक है. ने बताया कि इस शैक्षणिक सत्र में भी विश्वविद्यालय से जुड़े तीन कॉलेजों के प्रिंसिपल रिटायर हो रहे हैं.

अन्य खबरें