रांची: राजधानी की सड़कों को स्मार्ट बनाने का काम करेगा पथ निर्माण विभाग

Smart News Team, Last updated: 21/11/2020 06:59 PM IST
  • राजभवन की ओर से रांची की चार सड़कों को स्मार्ट बनाने के लिए जो योजना सरकार की ओर से तैयार की गई थी और जुडको को काम सौंपा गया था लेकिन योजना के तहत चौड़ीकरण के लिए जमीन की उपलब्धता ना हो पाने और स्थानीय लोगों के विरोध के चलते सरकार ने सड़कों को वापस पथ निर्माण विभाग को दे दिया गया है.
रांची की चार सड़कों को स्मार्ट बनाया जाएगा

रांची. राजधानी की चार सड़कों को स्मार्ट बनाया जाएगा. इसके तहत सड़कों को चौड़ा करके किनारों पर फुटपाथ बनाने का काम अब पथ निर्माण विभाग द्वारा ही किया जाएगा. इन सड़कों को स्मार्ट बनाने के लिए जुडको को दिया गया था लेकिन अब यह काम निर्माण विभाग को हस्तांतरित कर दिया गया है. राजभवन से जानकारी मिलते ही पथ निर्माण विभाग एक्शन मोड में आ गया है और उसने बूटी मोड तक साढ़े आठ किलोमीटर लंबी रोड पर कार्य शुरू कर दिया है. इस काम पर करीब एक करोड़ रुपए की लागत आएगी. दिवाली से पहले इसके गड्ढे भरवाने का काम किया गया था.

छठ खत्म होते ही विभाग की ओर से इस काम की जिम्मेदारी दो ठेकेदारों को दे दी गई है. रोड को स्मार्ट बनाने के लिए पहले दो हिस्सों में बांटा जाएगा. पथ निर्माण विभाग की मानें तो छठ के खत्म होती ही काम शुरू हो जाएगा. दोनों ठेकेदारों को 50-50 लाख रुपए का काम सौंपा गया है. कार्य खत्म होते ही रोड चकाचक हो जाएगी. उल्लेखनीय है कि राजधानी की चार सड़कों एयरपोर्ट से बिरसा चौक, बिरसा चौक से किशोरगंज होते हुए राजभवन तक, राजभवन से लालपुर होते हुए काटाटोली चौक तक और राजभवन से बरियातू होते हुए बूटी मोड़ तक सड़कों को स्मार्ट बनाने की योजना सरकार ने तैयार की थी. चारों सड़कों को चौड़ा करके दोनों तरफ फुटपाथ बनाने की योजना थी और बीच में डिवाइडर बनाना था.

रांची सर्राफा बाजार में सोना चांदी के दामों में आई भारी गिरावट, आज का मंडी भाव

सड़कों को स्मार्ट बनाने का काम जुडको को सौंपा गया था. चौड़ीकरण के लिए जमीन की उपलब्धता नहीं हो पाने और स्थानीय लोगों के विरोध के चलते सरकार ने इस योजना को बंद कर दिया है, इसलिए अब इन सड़कों को वापस पथ निर्माण विभाग को दे दिया गया है. पथ निर्माण विभाग के अधिकारियों का कहना है कि अभी सड़कों की मरम्मत के लिए फंड नहीं मिला है. फंड मिलने के बाद अन्य सड़कों की भी मरम्मत कराई जाएगी। अधिकारियों का कहना है कि दिसंबर तक फंड मिलने की उम्मीद है.

अन्य खबरें