खिलाड़ियों के लिए संजीवनी होगी नई खेल नीति

Smart News Team, Last updated: 04/12/2020 11:35 PM IST
  • हाल ही में झारखंड सरकार की ओर से नई खेल नीति 2020 बनाई गई है. यह खेल नीति पूरे राज्य में 29 दिसंबर को लागू की जानी है. नई खेल नीति खिलाड़ियों के लिए संजीवनी साबित होने वाली है.
फाइल फोटो

रांची. बता दें कि पिछले दिनों मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में हुई निगरानी समिति की बैठक के दौरान पर्यटन कला संस्कृति व खेलकूद विभाग की समीक्षा की गई थी. समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने खेलनी ईद की भी चर्चा की साथ ही खिलाड़ियों के लिए भी कई घोषणाएं की. जिसमें राज्य में खेल और खिलाड़ियों को बढ़ावा देने के लिए तैयार की गई नई खेल नीति 2020 को 29 दिसंबर से लागू किए जाने की बात कही गई.

बैठक में मुख्यमंत्री ने खिलाड़ियों का डेटाबेस तैयार कर अंतरराष्ट्रीय क्षमता मानक के साथ सुविधा उपलब्ध कराने तथा देश और पारंपरिक खेलों को प्रोत्साहन देने के लिए इस पोस्ट टूरिज्म को बढ़ावा देने पर जोर दिया. वहीं अधिकारियों की ओर से जानकारी दी गई थी झारखंड में फुटबाल को बढ़ावा देने के लिए फुटबॉल फेडरेशन के साथ ही खेल विभाग एमओयू करेगी जिसके तहत फुटबॉल फेडरेशन को टेक्निकल पार्टनर बनाया जाएगा.

सावधान: सर्दी में इलेक्ट्रिकल सामानों से शरीर को गर्म करना पड़ सकता है भारी

खेलो इंडिया स्टेट सेंटर आफ एक्सीलेंस के तहत कुमारदुधानी में एकलव्य तीरंदाजी केंद्र दुमका को खेलो इंडिया स्टेट सेंटर ऑफ एक्सीलेंस और विभिन्न स्तर पर एक्सीलेंस सेंटर बनाने का प्रस्ताव केंद्र को भेजा गया है. अधिकारियों की माने तो राज्य के हर जिले में दो खेल केंद्रों को खेलो इंडिया स्टेट लेवल सेंटर के रूप में संचालित किया जाएगा. यही नहीं 29 दिसंबर को ही राज्य में फुटबॉल के विकास के लिए ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन और खेल विभाग के बीच एमओयू होगा और सीधी नियुक्ति के लिए चयनित खिलाड़ियों को नियुक्ति पत्र दिया जाएगा. यही नहीं राज्य भर में चयनित 15 स्कूलों में नए हाथी एस्ट्रो टर्फ निर्माण का शिलान्यास भी किया जाएगा साथ ही खिलाड़ियों और शोधकर्ताओं के लिए खेल पुस्तकालय भी खोला जाएगा.

अन्य खबरें