रांची: इस बार बाजार में लोग कर रहे कम धुआं और कम शोर वाले पटाखों की डिमांड

Smart News Team, Last updated: Sat, 7th Nov 2020, 4:59 PM IST
  • दिवाली से पहले पटाखों की दुकानें बिक्री के लिए तैयार हैं और राजधानी के निर्धारित मैदान में बाजार लग गया है. इस बार प्रदूषण और कोरोना के चलते लोग ईको फ्रेंडली पटाखों की डिमांड कर रहे हैं और दुकानदारों की ओर से भी 60 फीसद तक पटाखे ईको फ्रेंडली ही रखे गए हैं
इस बार लोग ईको फ्रेंडली पटाखों की खरीदारी में रूचि ले रहे हैं

रांची. दिवाली को एक सप्ताह ही शेष बचा है. लोग धनतेरस से पहले दिवाली की खरीदारी में जुट गए हैं. राजधानी के मरहाबादी मैदान में सुरक्षा के पुख्ता प्रबंधों के बीच पटाखों की दुकानें लगा दी गई है. लोग भी पटाखे के स्टॉलों पर खरीदारी के लिए आ रहे हैं. हालांकि अभी गली-मोहल्लों में पटाखे बेचने वाले खुदरा विक्रेता ही खरीदारी के लिए आ रहे हैं. मगर इस बार कोरोना के कारण ग्रीन पटाखों की डिमांड ज्यादा है. इसकी वजह इन पटाखों में जहरीले तत्वों का ना होना है. इनकी आवाज भी मापदंडों के अनुसार सीमित ही होती है और इनसे पर्यावरण को कम नुकसान होता है.

दुकानदारों के मुताबिक पहले लोग तेज आवाज वाले पटाखों की डिमांड करते थे लेकिन इस बार पर्यावरण का ख्याल रखते हुए पटाखों की खरीदारी कर रहे हैं. ईको फ्रेंडली दिवाली मुहिम मुहिम को युवाओं का साथ मिल रहा है. बाजार में युवा और बच्चे पूछकर कम धुआं और कम शोर वाले पटाखे खरीद रहे हैं. अस्थायी दुकानदारों के मुताबिक बाजार में 60 फीसद से ज्यादा पटाखे इको फ्रेंडली हैं. कोरोना और बढ़ते प्रदूषण के कारण रांची के लोग भी वायु प्रदूषण को लेकर काफी सजग हो गए हैं. दुकान पर आने के साथ ही वे ग्रीन पटाखों की ही मांग कर रहे हैं. ये अच्छी बात है.

रांची: त्योहारी सीजन में मांग के चलते रविवार से शुरू होगी अंतरराज्यीय बस सेवा

दुकानदारों की ओर से भी इस बार बाजार में शारीरिक दूरी और कोरोना गाइडलाइन के पालन के लिए फैमिली पैक का निर्माण कर दिया गया है. पैक में बच्चों से लेकर बड़ों तक की पसंद का ख्याल रखा गया है. इसके अलावा अगर किसी ग्राहक को कोई पटाखा अलग से चाहिए तो उसे भी उपलब्ध कराया जाएगा. पैक में उपलब्ध सामग्री की लिस्ट दुकान के बाहर लगा दी गई है. इसे देखकर ग्राहक एक बार में सारे सामान का आर्डर कर सकते हैं.

अन्य खबरें