रिम्स की रेडियोथैरेपी मशीन खराब इलाज के लिए भटक रहे कैंसर पीड़ित

Smart News Team, Last updated: Thu, 7th Jan 2021, 5:42 PM IST
  • राजधानी के अस्पताल में रेडियोथैरेपी की मशीन खराब है. चलते यहां कैंसर का इलाज कराने वाले रोगियों को भटकना तो पढ़ ही रहा है साथ ही मशीन खराब होने के कारण निजी अस्पतालों में जाकर मोटी रकम भी गवानी पड़ रही है.
मशीन खराब होने के कारण निजी अस्पतालों में जाकर मोटी रकम भी गवानी पड़ रही है

रांची :बता दें कि रिम्स अस्पताल में रेडियोथैरेपी की मशीन पिछले 5 माह से खराब पड़ी हुई है जिस को ठीक कराने के लिए अस्पताल प्रशासन पूरी तरह लापरवाही पूर्ण रवैया अपना रहा है. अस्पताल के रेडियोथैरेपी विभाग की लीनियर एक्सीलेटर मशीन के खराब होने से कैंसर पीड़ितों रोगी को सर्जरी के बाद रेडिएशन की जरूरत पड़ती है. राजधानी के रिम्स अस्पताल में कैंसर पीड़ितों को सर्जरी के बाद रेडिएशन की निशुल्क व्यवस्था है.

 जबकि निजी अस्पतालों में रेडिएशन कराने के लिए रोगियों से एक से डेढ़ लाख रुपए तक की फीस निर्धारित है. अस्पताल की लीनियर एक्सीलेटर मशीन खराब होने के कारण यहां इलाज कराने आए रोगियों को भटकना तो पढ़ ही रहा है साथ ही उन्हें रेडिएशन के लिए मोटी रकम खर्च करनी पड़ रही है. जो गरीब कैंसर रोगी व उनके परिवारों के लिए बस की बात नहीं है. ऐसे में गरीब कैंसर पीड़ितों को जान से भी हाथ धोना पड़ रहा है.

स्विमिंग पूल, पार्क के संचालन पर निर्णय जल्द, जानिए कब खुलेंगे

अस्पताल प्रशासन की लापरवाही देखिए रेडियोथैरेपी के दौरान सीटी स्कैन कराने की भी रोगी को जरूरत पड़ती है. लेकिन यहां सीटी स्कैन मशीन का भी लीनियर एक्सीलेटर मशीन की तरह हाल है. अस्पताल की सीटी स्कैन मशीन तो पिछले कुछ सालों से खराब पड़ी हुई है. रेडियोथैरेपी विभाग की ओर से रिम्स प्रशासन को इस बारे में अवगत कराने के बावजूद भी प्रबंधन समिति की ओर से गंभीरता नहीं दिखाई गई है. रिम्स अस्पताल प्रशासन की गैर जिम्मेदाराना कार्यशैली के चलते यहां इलाज कराने वाले रोगी की न केवल जेब ढीली हो रही है बल्कि उन्हें जान से भी हाथ धोना पड़ रहा है.

 

अन्य खबरें