राजस्थान सरकार ने हाथी गांव के महावतों को दी आर्थिक सहायता

Smart News Team, Last updated: 12/12/2020 07:50 PM IST
  • हाथी कल्याण कोष के माध्यम से 4 करोड़ 20 लाख रुपए की सहायता राशि मुख्यमंत्री सहायता कोष कोविड-19 राहत कोष से जारी की जाएगी. निर्णय के अनुसार लगभग 95 हाथियों के भरण-पोषण एवं उन पर निर्भर परिवारों के सहयोग के लिए 17 मार्च से 31 दिसम्बर, 2020 की अवधि के लिए सहायता राशि हाथी कल्याण संस्था को दी जाएगी.
फाइल फोटो

जयपुर. कोरोना महामारी के कारण अब तक लोगों की आर्थिक स्थिति सुधर नहीं पाई है. ऐसे में देश के एकमात्र हाथी गांव के महावतों और उनके परिवारों को राज्य सरकार ने बड़ी राहत दी है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कोविड-19 महामारी के कारण जयपुर स्थित हाथी गांव में रह रहे महावतों तथा उनके परिवारों की आजीविका प्रभावित होने के चलते आर्थिक मदद का निर्णय लिया है.

इस निर्णय के तहत हाथियों की देखभाल पर किए जा रहे खर्च के लिए मुख्यमंत्री सहायता कोष से सहायता राशि उपलब्ध करवाई जाएगी. गहलोत ने इस संबंध में वन विभाग से प्राप्त प्रस्ताव को स्वीकृति दी है. इसके लिए हाथी कल्याण कोष के माध्यम से 4 करोड़ 20 लाख रुपए की सहायता राशि मुख्यमंत्री सहायता कोष कोविड-19 राहत कोष से जारी की जाएगी. निर्णय के अनुसार लगभग 95 हाथियों के भरण-पोषण एवं उन पर निर्भर परिवारों के सहयोग के लिए 17 मार्च, 2020 से 31 दिसम्बर, 2020 की अवधि के लिए सहायता राशि हाथी कल्याण संस्था को आवंटित की जाएगी. हाथी गांव विकास समिति के अध्यक्ष बल्लु खां ने सरकार के निर्णय का स्वागत किया है. 

राजस्थान में दुल्हन के अपहरण की कोशिश, नाकाम रहने पर दुल्हा-दुल्हन को गोली मारी

उन्होंने कहा कि महावत और उनके परिवारों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा था, क्योंकि पर्यटक व्यवसाय ठप पड़ा है. ऐसे में सरकार ने बड़ी राहत दी है. उन्होंने बताया की राशि का बंटवारा प्रति हाथी के हिसाब से किया जाएगा. विभाग की ओर से करीब 2600 रुपए प्रति हाथी प्रति दिन का प्रस्ताव बनाकर भेजा गया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें