वाराणसी: मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह में 33 जोड़े शादी के बंधन में बंधे

Smart News Team, Last updated: 25/11/2020 11:59 PM IST
  • वाराणसी के सेवापुरी में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत 33 जोड़े शादी के बंधन में बंधे. इस योजना के तहत नवविवाहिता के खाते में 35 रुपए सरकार की तरफ से पहुंच जाएंगे.
वाराणसी में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह में 33 जोड़े शादी के बंधन में बंधे.

वाराणसी. वाराणसी में बुधवार को 33 जोड़े मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत एक दूजे के हो गए. इन सभी नवविवाहिता के खाते में 35 रुपए पहुंच जाएंगे. इस सामूहिक विवाह के कार्यक्रम में पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष डाॅक्टर सुजीत सिंह मुख्य अतिथि रहे.

वाराणसी के सेवापुरी में बुधवार को मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम में 33 जोड़े शादी के बंधन में बंधे. इस सामूहिक विवाह में सेवापुरी के 21 और आराजी लाइन के 13 जोडों ने सात फेरे लिए. मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम के मौके पर जिला समाज कल्याण अधिकारी मीणा श्रीवास्तव ने नवदंपत्तियों को प्रमाण पत्र देते हुए आशीर्वाद दिया. इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री सामूहिक योजना पिछले दो वर्षों से जिले के सभी ब्लाॅकों में संचालित हो रही है.

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजनो के तहत नवविवाहिता के खाते में 35 हजार रुपए आएंगे.

वाराणसी में लाखों रुपए खर्च कर बनी गौशाला में खाने की कमी से मर रहे मवेशी

जिला समाज कल्याण अधिकारी मीणा श्रीवास्तव ने कहा कि इस कार्यक्रम के तहत जिन लड़कियों के माता-पिता शादी करने में सक्षम नहीं होते हैं. जो गरीब तबके से आते हैं उनको इस योजना का लाभ दिया जाता है. इस योजना के तहत सभी जोड़ों के लिए कपड़े, चुनरी, गृहस्थी का सामान समेत उनको प्रथम जीविकापार्जन के लिए सरकार वधू के खाते में 35 हजार रुपए भेजती है.

UP में 6 महीने के लिए लगा एस्मा एक्ट, सरकारी कर्मचारियों की हड़ताल पर बैन

वाराणसी के सेवापुरी में मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह कार्यक्रम में समाज कल्याण अधिकारी मीना श्रीवास्तव, खंड विकास अधिकारी सेवापुरी बीके जायसवाल, खंड विकास अधिकारी आराजी लाइन सुरेंद्र प्रताप सिंह, खण्ड विकास अधिकारी बड़ागांव दीपांकर आर्या, एडीओ पंचायत रमेश दुबे, एडीओ कृषि दिनेश सिंह, एडीओ समाज कल्याण सुरेश सिंह, एडीओ सहकारिता मनीष सिंह, बिहारी सिंह कुशवाहा और इंद्रजीत सिंह मौजूद रहे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें