वाराणसी कैंट में पासिंग आउट परेड के बाद भारतीय सेना का हिस्सा बने 94 गोरखा जवान

Smart News Team, Last updated: 23/02/2021 11:00 PM IST
  • वाराणसी छावनी में पासिंग आउट परेड के बाद 94 गोरखा रंगरूट भारतीय थल सेना का हिस्से बने. परेड में कोरोना प्रोटोकॉल का पालन किया गया. परेड के मुख्य अतिथि मेजर जनरल इन्द्र सिंह लांबा ने जवानों में देश सेवा का जोश भरा.
94 गोरखा रंगरूट 42 हफ्तों की कड़ी ट्रेनिंग के बाद भारतीय सेना में शामिल हो गए हैं.

वाराणसी. वाराणसी छावनी के 39 जीटीसी परिसर में पासिंग आउट परेड के बाद 94 गोरखा रंगरूट भारतीय थल सेना का हिस्सा बन गए हैं. 42 हफ्ते की कड़ी ट्रेनिंग के बाद 94 गोरखा रंगरूट मंगलवार को भारतीय सेना में शामिल हो गए हैं. जवानों ने देश सेवा की शपथ ली है. इस मौके पर मेजर जनरल इन्द्र सिंह लांबा मौजूद रहे. उन्होंने जवानों में देश सेवा का जोश भरा.

मंगलवार को वाराणसी छावनी के 39 जीटीसी परिसर में परेड और दूसरी औपचारिकताएं पूरी की गई. जिसके बाद जवानों को पारंपरिक हथियार दिया गया. पासिंग रोड के बाद स्मृति धाम पर रेजिमेंट के शहीदों को याद किया गया. कोविड-19 की वजह से पासिंग परेड में जवानों के परिजन नहीं आ सके. परेड में सिर्फ दो से तीन जवानों के परिजन मौजूद थे.

वाराणसी की गंगा में बनेगा खूबसूरत आइलैंड, टूरिस्ट उठाएंगे बीच का लुफ्त

पासिंग परेड में कोरोना प्रोटोकॉल का ध्यान रखा गया. सभी जवानों ने परेड मास्क लगाकर की. इसके अलावा सारी गतिविधियों में जवान मास्क लगाए रखे. जवानों ने पासिंग परेड को पूरा करने के बाद अपने परिजनों से आशीर्वाद लिया.

छात्र हित में चरणबद्ध तरीके से खुलेगी बीएचयू

इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मेजर जनरल इन्द्र सिंह लांबा ने अनुशासन, समर्पण और देश को सर्वोपरि मानकर जज्बे के साथ काम करने को कहा. उन्होंने कहा कि पहले नंबर पर हमारा देश आता है फिर हमारा रेजिमेंट। देश को बाहरी दुश्मनों के साथ ही भीतरी आतंकवाद से भी हमें लड़ना है. इसके अलावा देश के भीतर आपदाओं में भी हमें तन्मयता से अपनी भूमिका अदा करनी है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें