बौद्ध भिक्षुओं का 115 सदस्यीय दल विश्व शांति के लिए श्रीलंका से सारनाथ आएगा

Naveen Kumar Mishra, Last updated: Fri, 15th Oct 2021, 3:36 PM IST
श्रीलंका से 115 सदस्यों वाली बौद्ध भिक्षु की दल विश्व शांति की पूजा के लिए वाराणसी के सारनाथ आने वाले हैं. दल अपने साथ भगवान बुद्ध के अस्थि अवशेष भी ला रहे हैं.
प्रतीकात्मक तस्वीर

वाराणसी: श्रीलंका से 115 सदस्यों वाली बौद्ध भिक्षु की दल विश्व शांति की पूजा के लिए वाराणसी के सारनाथ आने वाले हैं. बौद्ध भिक्षुओं का यह दल अपने साथ भगवान बुद्ध के अस्थि अवशेष भी ला रहे हैं. 20 अक्टूबर को बौद्ध भिक्षु का दल भगवान बुद्ध के अस्थि अवशेष की विशेष पूजा करने वाले हैं.

महाबोधि सोसाइटी ने जानकारी दी

महाबोधि संयुक्त सोसाइटी के संयुक्त सचिव बौद्ध भिक्षु सुमिता नंद ने मामले की जानकारी दी है. बौद्ध भिक्षु सुमित आनंद ने बताया कि 115 सदस्यों वाली बौद्ध भिक्षु का दल 20 अक्टूबर को कुशीनगर से सारनाथ पहुंचेगा. उन्होंने बताया कि बौद्ध भिक्षु के दल को वाराणसी में ठहरने के लिए होटलों को बुक कर लिया गया है.

Dussehra 2021: रावण कैसे बना दशानन ? जानें 10 सिरों का रहस्य और मायने

दशहरा ऑफर: रावण मंडी में रावण के साथ कुंभकर्ण और मेघनाथ बिलकुल फ्री

 

भ्रमण करते हुए आएंगे बौद्ध भिक्षु 

जानकारी दे दें श्रीलंका से आने वाले 115 सदस्यों वाली बौद्ध भिक्षुओं की दल कुशीनगर से होते हुए काशी और सारनाथ आएगी. बौद्ध भिक्षु का दल देश के विभिन्न कोनों में मौजूद बौद्ध स्थलों के मनोरम दृश्य को निहारते हुए और पूजा पाठ करते हुए काशी और सारनाथ आएगी. बता दें इससे पहले श्रीलंका के प्रधानमंत्री भी सारनाथ में आकर पूजा पाठ कर चुके हैं. बौद्ध भिक्षुओं का यह दल अपने साथ भगवान बुद्ध के अस्थि अवशेष भी ला रहे हैं. 20 अक्टूबर को बौद्ध भिक्षु का दल भगवान बुद्ध के अस्थि अवशेष की विशेष पूजा करने वाले हैं. महाबोधि संयुक्त सोसाइटी के संयुक्त सचिव बौद्ध भिक्षु सुमिता नंद ने मामले की जानकारी दी है. 

Dussehra 2021: असत्य पर सत्य की जीत का प्रतीक दशहरा, जानिए कौन से मुहूर्त में पूजा करना होगा शुभ

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें