सुप्रीम कोर्ट के सामने आत्मदाह मामले में आईपीएस के बाद एसओ और दरोगा पर कार्रवाई

Smart News Team, Last updated: Tue, 17th Aug 2021, 1:47 PM IST
  • बसपा सांसद अतुल राय पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली पीड़िता द्वारा सुप्रीम कोर्ट के सामने आत्मदाह की कोशिश के मामले में आईपीएस अमित पाठक के बाद एसओ और मामले के विवेचक दरोगा को निलंबित कर दिया गया है.
रेप पीड़िता द्वारा सुप्रीम कोर्ट के सामने आत्मदाह की कोशिश के मामले में यूपी सरकार एक्शन मोड में है.

वाराणसी. बसपा सांसद अतुल राय पर रेप का आरोप लगाने वाली पीड़िता द्वारा सुप्रीम कोर्ट के सामने आत्मदाह की कोशिश के मामले में यूपी सरकार एक्शन मोड में है. आईपीएस के बाद एसओ और दरोगा पर बड़ी कार्रवाई की गई है. कैंट थाना प्रभारी राकेश सिंह और मामले के विवेचक गिरजा शंकर यादव को निलंबित कर दिया गया है. इससे पहले सोमवार देर रात वाराणसी के तत्कालीन एसएसपी अमित पाठक को गाजियाबाद के पुलिस उपमहानिरीक्षक पद से हटा दिया गया था.

आत्मदाह से पहले फेसबुक लाइव पर आकर अमित पर लगाए गंभीर आरोप

पीड़िता और उसका साथी सुप्रीम कोर्ट के सामने आत्मदाह करने से पहले फेसबुक लाइव आया. फेसबुक लाइव आकर उन्होंने वाराणसी के तत्कालीन एसएसपी अमित पाठक पर गंभीर आरोप लगाए. उन्होंने कहा कि पाठक ने इस मामले में उनकी कोई सुनवाई नहीं की. वहीं, वाराणसी पुलिस को लेकर उन्होंने कहा कि सांसद के दबाव में आकर पुलिस पीड़िता को ही फंसा रही थी. इस मामले में बलिया निवासी पीड़िता ने लोकसभा चुनाव के दौरान एक मई 2019 को लंका थाने में दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया था.

राखी से पहले तीन बहनों ने खोया भाई, ट्यूबवेल की टंकी में गिरने से मासूम की मौत

पत्नी से मिलाने के बहाने बुलाकर किया दुष्कर्म

पीड़िता ने अतुल राय पर आरोप लगाया कि 7 मार्च 2018 को अतुल ने उसे अपने फ्लैट में अपनी पत्नी से मिलाने के बहाने बुलाया था. जहां पहुंचने पर अतुल ने उसके साथ दुष्कर्म किया और अश्लील वीडियो भी बना लिया. मामला दर्ज होने के बाद अतुल भाग गए और चुनाव जीतने के बाद उन्होंने सरेंडर कर दिया था. वहीं, इस मामले में अतुल ने भी पीड़िता के ऊपर ब्लैकमेल करने समेत कई आरोप लगाए थे. जिसके बाद पीड़िता के खिलाफ धोखाधड़ी मामले में एनबीडब्ल्यू जारी हुआ था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें