हादसे से गंभीर हुआ प्रशासन,नाव पर खड़े होकर सेल्फी लेने से रोक नियम हुए सख्त

Smart News Team, Last updated: Thu, 10th Dec 2020, 2:31 PM IST
  • प्रशासन ने यह सख्ती नाव दुर्घटना के बाद दिखाई है, और हादसे से सबक लेते हुए घटना की पुनरावृत्ति ना हो तो सख्त नियम जारी कर दिए हैं. वहीं सोशल मीडिया पर भी इस संबंध में लोगों से मदद की अपील की जा रही है.
वाराणसी में हुई दुर्घटना के बाद घाटों पर नियम हुए सख्त

वाराणसी. गँगा पर नाव की यात्रा करने वाले सैलानी या आमजन अगर लाइफ जैकेट नहीं पहनेंगे तो नाविक के साथ वह भी कार्रवाई की जद में होंगे. इसके अलावा नाव पर खड़े होकर सेल्फी लेने आदि पर भी सख्त मनाही के निर्देश जारी कर दिये गए हैं. गंगा घाट पर धारा 144 लागू रहेगी. इसके लिए सभी घाटों पर बोर्ड लगवाए जाएंगे और निर्देशों का हरसंभव पालन कराया जाएगा. नियमों का उल्लंघन हुआ तो कार्यवाही तय है. प्रशासन ने यह सख्ती नाव दुर्घटना के बाद दिखाई है और हादसे से सबक लेते हुए घटना की पुनरावृत्ति ना हो तो सख्त नियम जारी कर दिए हैं. वहीं सोशल मीडिया पर भी इस संबंध में लोगों से मदद करने की अपील की जा रही है.

नाव दुर्घटना में चार युवाओं के डूबने से हुई मौत को लेकर डीएम ने कहा कि घटना झकझोर देने वाली है. इसकी पुनरावृत्ति न हो, इसके लिए ठोस कदम उठाए जाएंगे. अब प्रत्येक नाव पर लाइफ जैकेट रखना अनिवार्य होगा. लाइसेंसी नावों पर संचालकों को यह व्यवस्था स्वयं करनी होगी.इसके अलावा दुर्घटना से बचाव के अन्य उपाय भी करने होंगे. अगर, ऐसा नहीं करेंगे तो लाइसेंस निरस्त किए जाएंगे. एक-दो दिन में इस संबंध में आदेश भी जारी कर दिया जाएगा. 

स्कूल अफेयर की फोटो पति को भेज शादी तोड़ी, लिव-इन में रखा, फिर कर ली दूसरी शादी

सख्ती बरतने के लिए गंगा घाट पर धारा 144 प्रभावी रहेगा.यह सब रोजमर्रा मौखिक आदेश की तरह नहीं होगा इस आदेश का सख्ती से अनुपालन भी कराया जाएगा. इस बारे में आम जन से भी अपील की जाएगी कि आदेश का उल्लंघन करने वालों के बारे में जानकारी दें. आमजन सोशल मीडिया पर ऐसे लोगों की तस्वीर साझा कर प्रशासन को अवगत कराने में मदद कर सकेंगे. प्रशासन ऐसे लोगों को चिह्नित कर कार्रवाई करेगा.

डीएम ने कहा कि नियमों के उल्लंघन पर धारा-144 के साथ ही अन्य धाराओं में कार्रवाई सुनिश्चति होगी. निगरानी रखने की जिम्मेदारी जल पुलिस को दी जाएगी. इसकी मोनिटरिंग स्थानीय पुलिस द्वारा भी कराई जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें