वाराणसी के घाटों से सिल्ट हटाने का काम शुरू, लोगों के लिए बना था सिर दर्द

Smart News Team, Last updated: 13/10/2020 06:20 PM IST
वाराणसी के गंगा घाटों पर जमे सिल्ट की सफाई को शुरू कर दिया गया. वाराणसी नगर निगम के कर्मचारी जेटिंग मशीन से जमे हुए सिल्ट को साफ करने में लग गए है. सफाई की शुरुआत रीवा घाट से की गई.
वाराणसी में गंगा के घाटों से जमी हुई गाद हटाई जा रही है.

वाराणसी. वाराणसी के घाटों पर जमे सिल्ट की सफाई शुरू कर दिया गया है. वाराणसी नगर निगम के कर्मचारी जेटिंग मशीन से सिल्ट को साफ करने में लग गए हैं. सफाई की शुरुआत रीवा घाट से की गई है. बाढ़ के कारण गंगा किनारे बने घाटों पर सिल्ट जम गया है. जिसके कारण घाट पर आने वाले लोगो को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. जिसकी शिकायत करने के बाद नगर निगम के कर्मचारियों ने जमे गाद की सफाई शुरू कर दी है.

बनारस के घाटों पर हर साल बाढ़ आने के बाद ये सिल्ट जम जाती है. जब बाढ़ के पानी का स्तर नीचे उतरता है तो ये गाद घाट पर जमी रह जाती है. जिसके कारण घाट पर आने वाले लोगों को फिसलन और बाकी परेशानियों का सामना करना पड़ता है. वाराणसी के घाटों पर रोजाना हजारो की संख्या में श्रद्धालु आते हैं. जिनको इस जमे हुए गाद के कारण काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है. 

वाराणसी में दिनदहाड़े चोरी, ज्वेलरी साफ करने के बहाने उड़ा ले गए ढाई लाख के गहने

कार्तिक माह में घाट किनारे विशेष कार्यक्रम भी होते हैं. जिसमें देश-विदेश के लोग भी शामिल होते हैं. वाराणसी के घाटों पर कार्तिक माह में होने वाले त्यौहार मूर्ति विसर्जन, दीपावली, दशहरा, छठ पूजा और एकादशी जैसे त्यौहारों को बड़े धूमधाम से मनाया जाता है. जिसमे बड़ी संख्या में लोग शामिल होते है. 

T-20 क्रिकेट लीग में चमकेंगी की UP की लड़कियां, दिखाएंगी अपना हुनर

इसके अलावा वाराणसी की घाटों पर बड़ी संख्या में सैलानी भी आते हैं. जिनको इस जमे सिल्ट गाद के कारण परेशानोयों का सामना करना पड़ता है. जिसके बाद गंगा घाट के किनारे जमे गाद को हटाने का काम शुरू हो गया है. नगर निगम के कर्मचारी जेटिंग मशीन की मदद से जमे सिल्ट को साफ करने में जुट गए हैं. इसकी शुरूआत रीवा घाट के सामने गंगा में नगर निगम के कर्मचारी जेटिंग मशीन पानी के प्रेशर से जमे गाद की सफाई कर रहे हैं. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें