इलाहाबाद हाईकोर्ट का बनारस कोर्ट के वकीलों को निर्देश, खुद हटा लें अवैध कनेक्शन

Smart News Team, Last updated: Sat, 16th Jan 2021, 3:04 PM IST
  • बिजली चोरी के मामले में ऐसा ही एक निर्देश शुक्रवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बनारस बार एसोसिएशन के अधिवक्ताओं को दिया, कचहरी में अधिवक्ताओं की ओर से सभागार, चैंबर और चौकियों पर अवैघ बिजली उपयोग करने पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने निर्देश जारी किया है.
इलाहाबाद हाईकोर्ट.

वाराणसी: दूसरों को कानून का पाठ पढ़ाने वाले और कानून के रखवाले माने जाने वाले अधिवक्ता ही जब कानून के पवित्र किताब के निर्देशों का उल्लंघन जब खुद अधिवक्ता ही कर रहे हों तो फिर आप कानून कि रक्षा की उम्मीद किससे करेंगे. ऐसा ही एक निर्देश शुक्रवार को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बनारस बार एसोसिएशन के अधिवक्ताओं को दिया, कचहरी में अधिवक्ताओं की ओर से सभागार, चैंबर और चौकियों पर अवैघ बिजली उपयोग करने पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने निर्देश जारी किया है.

अवैध कनेक्शन हटवाने और वैध कनेक्शन लेकर बिजली उपयोग करने के लिए निर्देशित किया. इस क्रम में प्रभारी अधिकारी नजारत ने बनारस बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों को पत्र लिखकर अनुरोध किया. पत्र में इलाहाबाद हाईकोर्ट के निर्देश का हवाला देकर कहा गया था कि सुरक्षा मानकों को ध्यान में रखते हुए, अवैध रूप से बिजली कनेक्शन का उपयोग करने अधिवक्ताओं से अपेक्षा की जाती है, कि वे नियमों का उल्लघंन न करें. अवैध कनेक्शन हटाकर वैध कनेक्शन लगवाएं. अगर अवैध कनेक्शन नहीं हटाए जाते हैं, तो इलाहाबाद हाईकोर्ट निर्देश के मुताबिक विद्युत वितरण खण्ड पंचम के अधिशंसी अभियंता को कनेक्शन काटने का निर्देश दिया जायेगा.

बनारस के प्रख्यात शायर मेयार सनेही का 82 वर्ष की उम्र में निधन

बिजली विभाग के अधिकरी बताते हैं कि कई बार हमारे कर्मचारियों ने मौके पर जाकर अवैध बिजली कनेक्शन काटने की कोशिश की लेकिन वहां मौजूद अधिवक्ता उन्हें डरा धमकाकर वहां से भगा देते हैं. इस वजह से वहां विभाग बिजली चोरी रोकने ने नाकाम रहा. इसके बाद बिजली विभाग ने मजबूर होकर हाईकोर्ट का रुख किया जिसपर हाईकोर्ट ने कड़ी चेतावनी दी और इस बार एसोसिएशन को निर्देश दिया किया सारे अवैध कनेक्शन खुद हटाए जाएं.

UPPSC ने जारी किया 2021 के लिए परीक्षा कैलेंडर, 13 जून को PCS एग्जाम

क्या टीकाकरण के दौरान लोगों को मिलेगा वैक्सीन चयन करने का विकल्प? जानें जवाब

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें