कोरोना काल में एम्बुलेंस चालकों की मनमानी- वाराणसी से डाफी का किराया 3500 रूपए

Smart News Team, Last updated: 08/05/2021 05:45 PM IST
  • एम्बुलेंस ड्राइवर और परिजनों के बीच काफी जद्दोजहद के बाद 1500 रूपए पर बात बनी. अजय के परिजन एम्बुलेंस ड्राइवर को 1500 रूपए देने पर राजी हो गए. जिसके बाद इस बात की जानकारी नगवा चौकी प्रभारी को मिली. इसके बाद एम्बुलेंस ड्राइवर 3500 रूपए के बजाए 500 रूपए में अजय और उसके परिजनों को डाफी छोड़ने के लिए राजी हो गया.
कोरोना काल में राज्य के कई हिस्सों से एम्बुलेंस चालकों द्वारा मनमानी की बात सामने आई है.

वाराणसी- जिले के डाफी निवासी अजयराज पटेल का पैर टूटने के बाद उसे बीएचयू ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया था. शनिवार को ऑपरेशन के बाद डॉक्टरों ने उसकी छुट्टी कर दी. अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद उसे घर ले जाने के लिए परिजन एम्बुलेंस चालक के पास पहुंचे. जहां एम्बुलेंस ड्राइवर ने कोरोना से बनी स्थितियों का फायदा उठाते हुए 3500 रूपए की मांग कर दी.

एम्बुलेंस ड्राइवर और परिजनों के बीच काफी जद्दोजहद के बाद 1500 रूपए पर बात बनी. अजय के परिजन एम्बुलेंस ड्राइवर को 1500 रूपए देने पर राजी हो गए. जिसके बाद इस बात की जानकारी नगवा चौकी प्रभारी को मिली. मौके पर पहुंचे चौकी प्रभारी को पूरे माजरे का पता चला.

यूपी में निकल गया कोरोना की दूसरी वेव का पीक, जानिए क्या है विशेषज्ञों का दावा

बताया जा रहा है कि इसके बाद एम्बुलेंस ड्राइवर 3500 रूपए के बजाए 500 रूपए में अजय और उसके परिजनों को डाफी छोड़ने के लिए राजी हो गया. बताते चलें कि देश के साथ-साथ उत्तर प्रदेश में भी कोरोना की दूसरी लहर का कहर जारी है. कोरोना संक्रमण के आंकड़ों में लगातार तेजी से बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है. इस बीच राज्य के कई इलाकों से एम्बुलेंस चालकों द्वारा तय कीमत से ज्यादा वसूलने की शिकायत सामने आई. जिसके बाद कई मामलों में पुलिस ने कार्रवाई भी की.

खतरा! बच्चे होंगे कोरोना की तीसरी लहर का शिकार, जानें कैसे करें उनकी सुरक्षा

वाराणसी के हरहुआ में वैक्सीनेशन के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ रही धज्जियां

BHU ट्रामा सेंटर के इंचार्ज SK सिंह ने दिया इस्तीफा, सौरभ सिंह ने संभाला पद

वाराणसी एयरपोर्ट से आज दिल्ली, बेंगलुरु समेत नौ शहरों की 9 फ्लाइट कैंसिल

BHU अस्पताल के MS का इस्तीफा, कोरोना मरीजों के साथ लापरवाही का आरोप

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें