वाराणसी में तैनात ACP का गिरफ्तारी वारंट जारी, रोकी गई सैलेरी, जानिए क्या है मामला

Smart News Team, Last updated: Tue, 3rd Aug 2021, 7:43 PM IST
  • वाराणसी में तैनात एक एसीपी के खिलाफ अदालत ने पुलिस कमिश्नर को पत्र लिखा है. आदलत ने एसीपी चक्रमणि त्रिपाठी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है और वेतन भी अगले आदेशों तक रोकने को कहा गया है.
अदालत ने वाराणसी के इस ACP के खिलाफ किया वारंट जारी

वाराणसी. शहर में तैनात एसीपी को आदालत की अवहेलना करना भारी पड़ गया है. अब इस मामले में अदालत ने संज्ञान लेते हुए एसीपी के खिलाफ एक वारंट भी जारी किया है. इसके साथ ही अदालत ने इस मामले में पुलिस कमिश्नर को पत्र लिखकर कहा है कि अगले आदेशों तक एसीपी का वेतन भी रोक दिया जाए. अदालत ने ये वारंट इसलिए जारी किया है कि एक पुराने केस में वाराणसी में तैनात एसीपी चक्रमणि त्रिपाठी अदालत में गवाही देने नहीं आ रहे हैं. अदालत ने आदेश की अवेहलना मानते हुए एनबीडब्लू जारी किए हैं, इस केस में अगली सुनवाई की तारीख 11 अगस्त को निर्धारित की गई है.

बता दें कि ये पूरा मुरादाबाद का है जहां पर एक दहेज हत्या के मामले में तत्कालीन सीओ चक्रमणि त्रिपाठी को अदालत ने गवाही के लिए बुलाया है. हालांकि अदालत ने इस केस के विवेचक सीओ को बार बार बुलाने के लिए सम्मन भी भेजे हैं लेकिन यह अदालत में नहीं पहुंच पाए हैं. इसलिए अब अदालत ने पुलिस कमिश्नर को इस मामले में पत्र लिखा है.

दरअसल मुरादाबाद के बिलारी में 11 नवंबर 2016 को एक दहेज हत्या का केस पुलिस के संज्ञान में आया था. इस केस में हरिराम सिंह ने अपनी पुत्री नीरज को दहेज न देने पर छत्रपाल व परिजनों को मार डालने का आरोप लगाया था. इस केस की विवेचना तत्कालीन सीओ चक्रमणि त्रिपाठी ने की और यह मुकदमा मुरादाबाद की एडीजे-2 पुनीत कुमार गुप्ता की अदालत में विचाराधीन है. इस केस में अदालत में अब तक सात गवाह पेश होकर गवाही दे चुके है लेकिन अभी तक तत्कालीन सीओ चक्रमणि त्रिपाठी इस केस की गवाही के लिए नहीं गए हैं.

CM योगी का तंज, कहा- पिछली सरकार में बोर्ड और आयोग भ्रष्टाचार व भाई-भतीजा वाद का अड्डा बन गए थे

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें