बीएचयू में 17 मई से पार्ट टाइम ऑनलाइन कोर्स शुरू, जानें कैसे करें आवेदन

Smart News Team, Last updated: Thu, 13th May 2021, 9:06 PM IST
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय ने पार्ट टाइम ऑनलाइन कोर्स शुरू करने की घोषणा की है. जिसकी अवधि तीन महीने की होगी और इसमें भाग लेने वाले अभ्यर्थियों को ई-सर्टिफिकेट भी दिया जाएगा. इसमें आवेदन करने के लिए इच्छुक व्यक्ति बीएचयू की अधिकारिक वेबसाइट पर जाकर रजिस्ट्रेशन करा सकते है.
बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में ऑनलाइन पार्ट टाइम कोर्स शुरू

वाराणसी. कोरोना महामारी के बीच बनारस हिंदू विश्ववद्यालय यानी बीएचयू ने पार्ट टाइम कोर्स शुरू करने की घोषणा की है. इन कोर्सों को ऑनलाइन मोड में शुरू किया जाएगा. इसमें भाग लेने वाले अभ्यर्थी अपना रजिस्ट्रेशन बीएचयू की अधिकारिक वेबसाइट पर जाकर करा सकते है. इस पार्ट टाइम कोर्स की अवधि तीन महीने की होगी. जिसके बाद इसमें हिस्सा लेने वाले अभ्यर्थियों को ई-सर्टिफिकेट भी दिया जाएगा.

जानकारी के अनुसार बीएचयू की ओर से शुरू होने वाले इन पार्ट टाइम कोर्सों में फंडामेंटल ऑफ सोशल डिजाइन, सोशल डिजाइन इन इंडिया एंड यूएसए, एजूकेशन मिनिस्ट्री के प्रोजेक्ट स्कीम फॉर प्रमोशन ऑफ एकेडमिक एंड रिसर्च कम्प्रेशन शामिल है. इन कोर्सों के लिए क्लासेज को 17 मई 2021 से शुरू किया जाएगा, जोकि ऑनलाइन मोड में आयोजित होंगी. ये कक्षाएं 18 अगस्त 2021 तक चलेंगी.

नदी में शव मिलने के मामले पर UP स्वास्थ्य मंत्री ने दिए DM को जांच के आदेश

इन कोर्सों में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों के लिए ध्यान देने वाली बात यह है कि इसमें प्रमाण पत्र यानी सर्टिफिकेट केवल उन्हीं छात्र-छात्राओं को दिया जाएगा, जिनकी कक्षाओं में उपस्थिति 70 प्रतिशत रहेगी. इन विद्यार्थियों को ई-सर्टिफिकेट बीएचयू, मैरीलैंड इंस्टीट्यूट ऑफ आर्टस और मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी की ओर से प्रदान किया जाएगा.

सफाई कर्मचारी फोटोग्राफी करते रहे, जावेद ने गंगा में मिले शव दफनाया

इस पार्ट टाइम कोर्स में आवेदन करने के लिए अभ्यर्थियों को बीएचयू की अधिकारिक वेबसाइट www.bhu.ac.in पर जाना होगा. जिसके बाद वेबसाइट के होम पेज पर दिए NEWS/NOTICE के सेक्शन में जाकर अपना ऑनलाइन आवेदन कर सकते है. इन कोर्सों की कक्षाएं तीन महीने तक चलेंगी. जिसकी अवधि 17 मई 2021 से 18 अगस्त 2021 तक होगी.

बिहार में बक्सर के बाद अब पटना में गंगा में तैरते दिखे कोरोना मृतकों के शव

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें