वाराणसी के सेंट मैरी स्कूल पर अधिक फीस वसूली के आरोप सही, BED ने पैसे लौटाने के दिए आदेश

ABHINAV AZAD, Last updated: Thu, 2nd Dec 2021, 2:03 PM IST
  • वाराणसी के सेंट मैरी स्कूल के खिलाफ बेसिक शिक्षा विभाग की जांच कमेटी ने अधिक फीस वसूलने का आरोप सही पाया है. अब बेसिक शिक्षा विभाग ने स्कूल को अधिक लिए गए पैसे पेरेंट्स के अकाउंट में वापस भेजने का आदेश दिया है.
(प्रतीकात्मक फोटो)

वाराणसी. कैंटोनमेंट स्थित सेंट मैरी स्कूल पर अधिक फीस वसूसने के आरोप लगे थे. जिसके बाद बेसिक शिक्षा विभाग की जांच कमेटी ने मामले छानबीन की. बेसिक शिक्षा विभाग की जांच कमेटी ने अपनी तफ्तीश में पाया कि सेंट मैरी स्कूल पर अधिक फीस वसूसने के आरोप सही हैं. इस जांच में आरोप सही पाए जाने के बाद बेसिक शिक्षा विभाग ने सेंट मैरी स्कूल को अधिक लिए गए पैसे पेरेंट्स के अकाउंट में वापस भेजने के आदेश दिए हैं. अब स्कूल को पैसे पेरेंट्स के अकाउंट में भेजने होंगे.

गौरतलब है कि वाराणसी के सेंट मैरी स्कूल के खिलाफ अभिभावकों ने ज्यादा फीस वसूलने की शिकायत की थी. इस शिकायत के बाद जिलाधिकारी ने बेसिक शिक्षा विभाग को जांच के आदेश दिए थे. जिसके बाद बेसिक शिक्षा विभाग जांच के लिए कमेटी का गठन किया था. कमेटी ने अपनी जांच में इस आरोप को सही पाया. दरअसल, खंड शिक्षाधिकारी सेवापुरी, चिरईगांव और आराजीलाइन की टीम को बेसिक शिक्षा विभाग ने जांच की जिम्मेदारी दी थी. कमेटी ने तकरीबन चार महीने तक तफ्तीश के बाद अपनी जांच रिपोर्ट दी.

CM योगी का फरमान, सूबे के सभी एयरपोर्ट, बस स्टैंड व रेलवे स्टेशन पर हो कोरोना टेस्ट

दरअसल, स्कूल से जब्त दस्तावेजों और बच्चों की फीस रसीद की जांच के आधार पर पाया गया कि स्कूल ने अभिभावकों से शिक्षण शुल्क के अलावा एग्जाम फीस और एनुअल फीस भी जमा कराई. जबकि सरकार की ओर से फीस नहीं बढ़ाने और फिजिकल परीक्षा नहीं होने की स्थिति में परीक्षा शुल्क नहीं लेने के स्पष्ट आदेश दिए गए थे. बेसिक शिक्षा विभाग के मुताबिक, स्कूल को सभी अभिभावकों से लिये गए अधिक पैसे वापस करने का आदेश दिया गया है. साथ ही ऐसा नहीं करने पर स्कूल की मान्यता रद्द करने और मुकदमे की बात कही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें