वाराणसी: काशी विद्यापीठ में नए सत्र से शुरू होगा बीकॉम एलएलबी और BBA LLB कोर्स

Smart News Team, Last updated: Tue, 22nd Dec 2020, 11:33 PM IST
  • विद्या परिषद की बैठक 24 दिसंबर को होगी. इस बैठक में कई अन्य मुद्दों पर भी निर्णय होने की संभावना है. माना जा रहा है कि मुख्य एजेंडे के साथ पूरक एजेंडा और अध्यक्ष की अनुमति से भी प्रस्ताव आ सकते हैं. बताते चलें कि मुख्य एजेंडे में योग और प्राकृतिक शिक्षा केंद्र को स्वतंत्र विभाग बनाने का प्रस्ताव है.
विद्या परिषद की बैठक 24 दिसंबर को होगी.

वाराणसी- महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में आगामी सत्र से बीकॉम एलएलबी और बीबीए एलएलबी कोर्स की पढ़ाई होगी. इनके पाठ्यक्रम अनुमोदन के लिए 24 दिसंबर को विद्या परिषद यानि एकेडमिक काउंसिल की बैठक में रखे जाएंगे. एकेडमिक काउंसिल के अनुमोदन होने पर इनकी पढ़ाई विश्वविद्यालय के साथ-साथ कॉलेजों में हो सकेगी.

बताते चलें कि कई कालेजों ने इन दोनों कोर्सों की मान्यता के लिए आवेदन किया है. उन्हें बार काउंसिल से अनुमति मिल चुकी है. लेकिन विश्वविद्यालय से कोर्स पारित न होने के कारण वे अपने यहां कोर्स नहीं शुरू कर पा रहे हैं. काशी विद्यापीठ ने पिछले साल ही बीए-एलएलबी का पांच वर्षीय इंटीग्रेटेड कोर्स शुरू किया है. इसमें इंटर पास छात्र दाखिला ले सकते हैं.

HC के निर्देश से शिक्षकों को झटका, अपने पसंद के जिलों में ट्रांसफर अब आसान नहीं

विद्या परिषद की बैठक 24 दिसंबर को होगी. इस बैठक में कई अन्य मुद्दों पर भी निर्णय होने की संभावना है. माना जा रहा है कि मुख्य एजेंडे के साथ पूरक एजेंडा और अध्यक्ष की अनुमति से भी प्रस्ताव आ सकते हैं. बताते चलें कि मुख्य एजेंडे में योग और प्राकृतिक शिक्षा केंद्र को स्वतंत्र विभाग बनाने का प्रस्ताव है. स्नातक व स्नातकोत्तर स्तर पर भी योग का पाठ्यक्रम शुरू करने की अनुमति मांगी गई है. फिलहाल, पीजी डिप्लोमा और सर्टिफिकेट लेवल पर योग का पाठ्यक्रम चलाया जाता है. शोध अध्यादेश में संशोधन के लिए गठित कमेटी की रिपोर्ट पर भी चर्चा होगी.

'मोक्ष का पेड़' पेंटिंग के लिए BHU छात्रा का नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज

27 जनवरी को लगेगा भारतीय कालीन का वर्चुअल मेला

वाराणसी सर्राफा बाजार में सोना उछला चांदी पर लगा ब्रेक, क्या है आज का मंडी भाव

पुष्कर तालाब कुंड की सफाई कर भूजल स्तर सुधारने की कवायद

सर्वे कार्य शुरू, जल्द बनने लगेगा नई दिल्ली वाराणसी हाई स्पीड रेल कॉरिडोर

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें