वाराणसी में ब्लैक फंगस से पहली मौत, 58 साल की महिला ने BHU में तोड़ा दम

Smart News Team, Last updated: Sun, 16th May 2021, 11:34 AM IST
वाराणसी शहर में पहली बार एक 58 साल की महिला की मौत ब्लैक फंगस संक्रमण से हो गया. महिला को सर सुंदरलाल अस्पताल में सोमवार को भर्ती कराया गया था. बुधवार को ऑपरेशन से पहले महिला की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बावजूद भी डॉक्टरों को उनका ऑपरेशन करना पड़ा था. 
वाराणसी में ब्लैक फंगस से पहली मौत. (प्रतीकात्मक चित्र)

वाराणसी : शनिवार को वाराणसी शहर में पहला ऐसा मामला आया है. जिसमें कोरोना संक्रमित मरीज की ब्लैक फंगस से मौत हो हुई है. 58 साल की तनिमा मित्रा को सोमवार को वाराणसी के सर सुंदरलाल अस्पताल में ब्लैक फंगस का ऑपरेशन करने के लिए भर्ती किया गया. महिला तनीमा मित्रा के चेहरे के बाएं तरफ के आंख नाक और गाल की हड्डियां ब्लैक फंगस से इतनी प्रभावित हो चुका था कि महिला को कोरोना होने के बावजूद डॉक्टरों को उनकी जान बचाने के लिए ऑपरेशन करने का जोख़िम लिया. डॉक्टरों की तमाम कोशिशों के बावजूद शनिवार को आईसीयू में महिला की मृत्यु हो गई. महिला के मौत के बाद उसके पति ने सामने घाट पर महिला का अंतिम संस्कार कर दिया.

सर सुंदरलाल अस्पताल के डॉक्टरों ने छह और मरीजों में ब्लैक फंगस के संक्रमण फैलने की पुष्टि की है. जिससे वाराणसी शहर में कुल ब्लैक फंगस से संक्रमित मरीजों की संख्या 29 हो गई है. फिलहाल सर सुंदरलाल अस्पताल के आंख कान नाक के डॉक्टरों ने छह संक्रमित मरीजों के इलाज करने से पहले उनके कोरोना की आरटी पीसीआर जांच करवाने को कहा है. 

खुशखबरी! अब वाराणसी के सभी कोविड अस्पतालों में मिलेगी ऑक्सीजन, तुरंत आपूर्ति

आरटी पीसीआर की रिपोर्ट आने से पहले डॉक्टरों ने सभी छह मरीज में ब्लैक फंगस फैलने की दर को कम करने के लिए दवाई दे दी हैं. अभी सर सुंदरलाल अस्पताल के आईसीयू में तीन ब्लैक फंगस के मरीज को रखा गया है. जिनके शरीर में ब्लैक फंगस फैलने की दर को कम रखने में डॉक्टरों ने सफलता पाई है. फिलहाल वाराणसी समेत पूरे देश में कोरोना संक्रमण के बाद अब ब्लैक फंगस संक्रमण भी तेजी से फैलने लगा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें