BJP नेता का शव बनारस गाय घाट पर मिला, कैंसर के इलाज के लिए BHU में थे भर्ती

Smart News Team, Last updated: 19/09/2020 01:47 AM IST
वाराणसी में भाजपा किसान मोर्चा के पूर्व क्षेत्रीय उपाध्यक्ष अजय कुमार मौर्य का शव गया घाट पर मिला है. कैंसर के चलते उनका इलाज बीएचयू अस्पताल में चल रहा था. शुक्रवार सुबह अस्पताल से गायब होने पर परिजनों ने लंका थाने में उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखवाई थी.
वाराणसी के भाजपा नेता का शव गायघाट पर बरामद हुआ है.

वाराणसी. वाराणसी के भाजपा किसान मोर्चा के पूर्व क्षेत्रीय उपाध्यक्ष रहे अजय कुमार मौर्य का शव कोतवाली क्षेत्र के गायघाट से बरामद हुआ है. अजय बीएचयू सर सुंदरलाल अस्पताल के अंकोलॉजी वार्ड में कैंसर के इलाज के चलते भर्ती थे. शुक्रवार सुबह उनके अस्पताल से लापता होने पर परिजनों ने लंका थाने में उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई.

गौरतलब है कि जब सुबह भी अस्पताल से लापता हुए तो उनके पास उनका बेटा था. अजय के लापता होने की सूचना पर अस्पताल प्रशासन ने भी अपनी तरफ से तलाश शुरू कर दी थी. इसके बाद जब उनका कुछ भी पता नहीं चला तो उनके बेटे राजकिशन मौर्य ने लंका थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई. कैंसर की बीमारी के चलते उन्हें एक सप्ताह पहले आंकोलॉजी वार्ड में भर्ती कराया गया था.

मुख्तार अंसारी की पत्नी और दो रिश्तेदारों के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट में वारंट जारी

शुक्रवार सुबह कुछ देर के लिए उनकी पत्नी घर गई थी. उनके पास उनका बेटा राजकिशन मौर्य मौजूद था. राजकिशन का कहना है कि उसके पिता अचानक से कहां चले गए पता ही नहीं चल पाया. इसके अलावा बीएचयू अस्पताल में लगे सीसीटीवी कैमरे की मदद से भी उनकी तलाश की गई.

कोतवाली सीईओ प्रवीण कुमार सिंह ने बताया कि गंगा में एक शव बहते हुए आया था. इसके बाद चुनाव के लिए परिजनों को सूचना दी गई. प्रारंभिक लक्षणों से पुलिस यह मान कर चल रही है कि बीमारी से तंग आकर उन्होंने गंगा में कूदकर जान दे दी है. क्योंकि शरीर पर कोई चोट के निशान भी नहीं मिले हैं. हालांकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की स्थिति स्पष्ट हो पाएगी.

वाराणसी में विवाहिता ने लगाई फांसी, पिता ने कहा दहेज के लिए हुई हत्या

अस्पताल के चिकित्सा अधिकारी प्रोफेसर एस के माथुर ने बताया कि अजय की एक सर्जरी की जा चुकी थी और एक शुक्रवार को होनी थी. मरीज के लापता होने की सूचना पर अस्पताल स्टाफ और परिजनों ने उन्हें ढूंढने की काफी कोशिशें थी. उनके प्रयासों के बाद जब भी नहीं मिले तो पुलिस को सूचना दी गई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें