बुलेट ट्रेन : सिर्फ 4 घंटे में पूरी करवाएगी दिल्ली से वाराणसी का सफर

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Sat, 18th Sep 2021, 8:44 PM IST
राजधानी दिल्ली से पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी तक का सफर महज 4 घंटे में बुलेट ट्रेन कराएगी. यात्रियों को 865 किलोमीटर के बीच कुल 12 स्टेशन मिलेगी. इस दिशा में तैयारियां हो गई हैं.
फाइल फोटो : बुलेट ट्रेन से सिर्फ 4 घंटे में कर सकेंगें  दिल्ली से वाराणसी तक का सफर (प्रतिकात्मक फोटो)

वाराणसी. बुलेट ट्रेन देश की राजधानी दिल्ली से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र  वाराणसी तक का सफर महज 4 घंटे में पूरी कराएगी क्योंकि इस ट्रेन के लिए दोनों दूरियों के बीच का खाका तैयार कर लिया गया है. सितम्बर महिनें के अंत तक नेशनल हाई स्पीड रेल कारपोरेशन लिमिटेड (NHSRCL) इससे संबधित डीपीआर (DPR) तैयार करके मंत्रालय को भेज देगा.उत्तर मध्य रेलवे के जनसंपर्क अधिकारी ने बताया कि यह बड़ा प्रोजेक्ट है इसलिए इसके निगरानी की जिम्मेदारी सीधे रेल मंत्रालय को होगी. इसके साथ हीं पूर्व निर्धारित रूट से छेड़छाड़ की संभावनाएं भी नहीं होगी.

गौरलतब है कि इन दिनों बुलेट ट्रेन के कनेक्टिविटी की मांग कानपुर से होने की चल रही है बताया जा रहा है कि इसका रूट कन्नौज से कानपुर और अरौल से मकनपुर होते हुए उन्नाव के बांगरमऊ तक होगा. इस ट्रेन के पटरियों पर चलने के साथ हीं उत्तर प्रदेश आधुनिक सुविधाओं से लैस होने की कतार में एक कदम और आगे बढ़ जाएगा. इस बुलेट ट्रेन की खास बात यह होगी कि यह दिल्ली से वाराणसी के बीच 865 किलोमीटर की दूरी सिर्फ 4 घंटे में पूरी कराएगा.

दिल्ली से वाराणसी के बीच 12 जगह होगी स्टॉपेज

बुलेट ट्रेन के लिए दिल्ली से वाराणसी के बीच कुल 12 स्टेशन प्रस्तावित है. यह ट्रेन दिल्ली के सराय काले खां स्टेशन से शुरू होकर वाराणसी के बनारस स्टेशन जो मंडुआडीह स्टेशन का परिवर्तित नाम है, पर रुकेगी. बता दें कि दिल्ली से वाराणसी के बीच सफर दौरान यह ट्रेन इटावा, आगरा, कन्नौज, कानपुर, लखनऊ, रायबरेली, अयोध्या, प्रयागराज जो इलाहाबाद का परिवर्तित नाम है और भदोही जैसे प्रमुख स्टेशनों से होकर गुजरेगी. इससे संबंधित कार्य की डिटेल रिपोर्ट यानि डीपीआर 30 सितंबर तक रेल मंत्रालय को सौंप दी जाएगी. मिली जानकारी के मुताबिक 2023 तक देश के अन्य हिस्सों में बनाए जा रहे बुलेट ट्रेन के डीपीआर, दिल्ली से वाराणसी के बीच तैयार किए गए डीपीआर के साथ ही रेल मंत्रालय को सौंपी जाएगी. 

बाकी प्रस्तावित बुलेट ट्रेन की रूटों का विवरण

2023 तक देश में आने-जाने के लिए अच्छी और आधुनिक कनेक्टिवीटी का लाभ मिलने लगेगा. इस दिशा में वाराणसी से हावड़ा 760 किलोमीटर,  मुंबई से नागपुर 753 किलोमीटर, दिल्ली से अहमदाबाद 866 किलोमीटर, चेन्नई से मैसूर 435 किलोमीटर, दिल्ली से अमृतसर 459 किलोमीटर और 711 किलोमीटर मुंबई से हैदराबाद तक बुलेट ट्रेन की रूटें बिछायी जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें