चंपारण से 2 अक्टूबर को निकली लोकनीति सत्याग्रह किसान यात्रा बनारस पहुंची, शास्त्रीघाट पर सभा

Anurag Gupta1, Last updated: Wed, 20th Oct 2021, 5:00 PM IST
  • बिहार के चंपारण से 2 अक्टूबर को निकली लोकनीति सत्याग्रह किसान जन जागरण पदयात्रा बनारस पहुंची. शास्त्री घाट पर सभा में लखीमपुर खीरी में मारे गए किसानों को श्रद्धांजलि दी गई. सभा में सामाजिक कार्यकर्ता पूर्व विधायक सुनीलम, मैग्सेसे विजेता सामाजिक कार्यकर्ता संदीप पांडेय समेत अन्य मौजूद रहे.
लोकनीति सत्याग्रह किसान जनजागरण पदयात्रा के लोग शास्त्री घाट पर सभा करते हुए

वाराणसी. बिहार प्रांत के चम्पारण से 02 अक्तूबर को निकली लोकनीति सत्याग्रह किसान जन जागरण पदयात्रा बनारस पहुंची. किसानों ने कचहरी स्थित वरुणा नदी के किनारे शास्त्रीघाट पर सभा शुरू कर दी. बुधवार की सुबह वह आशापुर, पहाड़ियां, पांडेयपुर, कचहरी होते हुए दोपहर करीब एक बजे शास्त्री घाट पर पहुंचे. यहां किसानों का माल्यार्पण कर सम्मान किया गया. पदयात्री मंगलवार को ही बनारस में पहुंच गये था, सभी पदयात्री संदहा में विश्राम कर रहे थे.

करीब 350 किमी की यात्रा पूरी करके 400 यात्री किसान बनारस पहुंचे. इस यात्रा को पूरा करने में 18 दिन लगा. किसानों में उड़ीसा, झारखंड और बिहार के लोग हैं. यहां समाजवादी नेता विजय नारायण की अध्यक्षता में सभा में शुरू की गई. जिसमें नव निर्माण किसान संगठन के अध्यक्ष अक्षय जी, सामाजिक कार्यकर्ता व पूर्व विधायक सुनीलम, मैग्सेसे सम्मानित सामाजिक कार्यकर्ता डॉ संदीप पाण्डेय, सुनील सहस्त्रबुद्धे, यात्रा के संयोजक हिमांशु तिवारी, कर्नाटक के किसान नेता वीआर पाटिल, वरिष्ठ समाजवादी चिंतक एवं लोकतंत्र सेनानी राम धीरज सहित विभिन्न किसान संगठनों के राष्ट्रीय नेता मौजूद रहे. बता दें मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण बनारस पहुंचकर किसानों से मुलाकात की थी. बुधवार को दिल्ली को रवाना हो गये.

वाराणसी में महिला के साथ 6 लोगों ने किया गैंगरेप, निर्वस्त्र खून से लथपथ हालत में मिली

लखीमपुर हिंसा में जान गंवाने वाले किसानों की अस्थियां विसर्जित:

हाल ही में हुई लखीमपुर खीरी घटना में मारे गए किसानों की अस्थियां विसर्जित की गई. उस दौरान परिवार वालों के साथ शास्त्रीघाट पर सभी लोग मौजूद रहे. सभा से पूर्व किसान नेताओं ने श्रद्धांजलि देकर नमन किया. इसके बाद परिजन अस्थियां गंगा में विसर्जित करने के लिए घाट को रवाना हो गये.

बता दें हाल ही किसान लखीमपुर में किसान विरोध प्रदर्शन कर रहे थे उसी दौरान सांसद अजय मिश्रा टेनी के बेटे अशीष मिश्रा ने उन पर गाड़ी चढ़ा दी थी. जिसमें कई किसानों की जान चली गई थी. अशीष मिश्रा अभी पुलिस हिरासत में हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें