काम पर जा रहे बाइक सवार सिविल इंजीनयर को ट्रैक्टर ने कुचला, मौत, ड्राइवर अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: Thu, 7th Jan 2021, 10:17 PM IST
  • ड्यूटी पर जा रहे सिविल इंजीनियर की ट्रैक्टर से टक्कर मै मौके पर मौत, ट्रैक्टर चालक गिरफ्तार, हेलमेट पहने हुए था, बाइक चालक फिर नहीं बची जान. मृतक की तीन लड़कियां व एक लड़का है. मृतक की पहचान रोहनिया थाना क्षेत्र के कंठीपुर निवासी के रुप में हुई
वाराणसी: काम पर जा रहे सिविल इंजीनयर की ट्रैक्टर से टक्कर, मौत, ड्राइवर अरेस्ट

वाराणसी: रोहनिया थाना क्षेत्र के अखरी बाईपास हाईवे बृहस्पतिवार की सुबह लगभग 9:00 बजे सड़क दुर्घटना में सिविल इंजीनियर आशुतोष सिंह पटेल (34) निवासी कंठीपुर थाना रोहनिया को पीछे से आ रहे ट्रैक्टर ने टक्कर मारकर कुचल दिया जिससे उसकी मौके पर मौत हो गई . घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची रोहनिया लाश को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा. मिली जानकारी के अनुसार कंठीपुर गांव निवासी विजय सिंह पटेल का छोटा लड़का आशुतोष सिंह पटेल बृहस्पतिवार को सुबह अपने घर से बाइक से रामनगर जा रहे थे. तभी अखरी हाईवे पर पीछे से आ रहे ट्रैक्टर ने टक्कर मार दी जिससे वह गिर गया और मौके पर उसकी मौत हो गई. 

घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंचे चौकी प्रभारी अखरी गौरव पांडे ने उसके पिता विजय नरायन पटेल को सूचना दिया सूचना पर पहुंचे मृतक के पिता विजय नारायण पटेल घटनास्थल पर पहुंचे और ट्रैक्टर व चालक के खिलाफ तहरीर दिया, तहरीर के आधार पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया. 

वाराणसी: कुरुक्षेत्र पोखरे में गिरने से सफाईकर्मी की मौत, जांच में जुटी पुलिस

मृतक के पिता ने बताया कि हमारा आशुतोष सिविल इंजीनियर डिप्लोमा करने के बाद प्राइवेट कंपनी में काम करता था. और उसी काम की साइड पर जा रहा था, जिस दौरान हादसा हुआ. मृतक की पत्नी का नाम शिव कुमारी है, मृतक को तीन बेटियां और एक बेटा है. मृतक के पिता रेलवे से रिटायर है. मृतक दो भाइयों में छोटा है बड़े भाई का नाम चिरंजी पटेल है. पुलिस ने ट्रैक्टर व चालक को हिरासत में लिया है, और लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेजा .

शोध में हुई पुष्टि, डायबिटीज रोगी को नुकसान नहीं पहुंचाएगा प्राकृतिक शहदका सेवन

हेलमेट भी नहीं बचा पाई जान

मृतक आशुतोष कुमार सिंह हेलमेट पहने हुआ था. उसके बावजूद भी उसका सर कुचल गया, हेलमेट भी उसकी जान नहीं बचा पाई. घटनास्थल पर पहुंचे पिता विजय नारायण बेटे की लाश से लिपटकर काफी देर तक रो रहे थे. परिजनों का रो रो कर बुरा हाल था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें