बीएचयू प्रवेश परीक्षा में अभ्यर्थियों से नहीं लिया जाएगा सहमति पत्र

Smart News Team, Last updated: 11/08/2020 10:45 PM IST
वाराणसी.बीएचयू की स्नातक व स्नातकोत्तर की प्रवेश परीक्षाएं विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) की गाइडलाइन के मुताबिक होंगी परीक्षा केंद्रों को सेनेटाइज करने के साथ ही छात्रों की थर्मल स्क्रीनिंग भी होगी छात्र-छात्राओं ने सोशल मीडिया पर कोरोना काल में प्रवेश परीक्षा कराये जाने का विरोध किया
बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय

वाराणसी। कोरोना काल में आयोजित होने जा रही बीएचयू की प्रवेश परीक्षा में अभ्यर्थियों से कोई सहमति पत्र नहीं भरवाया जाएगा. बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी के प्रशासन ने यह साफ कर दिया अभ्यर्थियों से कोई सहमति पत्र नहीं लिया जाएगा.

बीएचयू की स्नातक व स्नातकोत्तर की प्रवेश परीक्षाएं विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) की गाइडलाइन के मुताबिक होंगी.

बीएचयू के पीआरओ डॉ. राजेश सिंह ने कहा कि विश्वविद्यालय परीक्षार्थियों व छात्र-छात्राओं के हित को ध्यान में रखकर वार्षिक व प्रवेश परीक्षा का आयोजन कर रहा है. परीक्षार्थियों से सहमति पत्र नहीं भरवाया जायेगा.

परीक्षा केंद्रों को सेनेटाइज करने के साथ ही छात्रों की थर्मल स्क्रीनिंग भी होगी. बता दें कि छात्र-छात्राओं ने सोशल मीडिया पर कोरोना काल में प्रवेश परीक्षा कराने का विरोध शुरू कर दिया है.

कुछ अभ्यर्थियों ने ट्वीट कर परीक्षा केंद्रो की दूरी पर भी आपत्ति जताई है.

बंगाल और असम के रहने वाले छात्रों ने भी प्रवेश परीक्षा पर अपनी असहमति जताई है. उन्होंने कहा कि बंगाल में संपूर्ण लॉकडाउन चल रहा है जिसकी वजह से वह परीक्षा में सम्मिलित नहीं हो सकते.

ऐसे में बीएचयू प्रशासन द्वारा प्रवेश परीक्षा आयोजित कराया जाना छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ है.

इसके अलावा प्रदेश के अन्य जिलों में भी संपूर्ण लॉकडाउन घोषित किया गया है. स्थानीय जिला प्रशासन द्वारा कुछ विशेष क्षेत्रों को भी संपूर्ण लॉकडाउन घोषित कर सील कर दिया गया है.

ऐसे में हजारों परीक्षार्थी प्रवेश परीक्षा में सम्मिलित नहीं हो पाएंगे जिससे उनके भविष्य पर इसका गहरा असर पड़ेगा इसलिए विश्वविद्यालय प्रशासन को कोरोना काल में प्रवेश परीक्षा नहीं आयोजित कराना चाहिए.

देश के 202 शहरों में बनाए जाएंगे ऑनलाइन परीक्षा केंद्र

बीएचयू प्रवेश परीक्षा के लिए 202 शहरों में ऑनलाइन सेंटर बनाए जा रहे हैं. प्रवेश परीक्षाओं के लिए विश्वविद्यालय की ओर से पर्यवेक्षक नियुक्त किए गए हैं. विभिन्न शहरों में बने केंद्रो पर इनकी ड्यूटी लगेगी. पर्यवेक्षकों को सेंटरों पर भेजने की तैयारी चल रही है.

दो चरणों में आयोजित होगी प्रवेश परीक्षा

प्रवेश परीक्षा दो चरणों में आयोजित की जायेगी. प्रथम चरण की परीक्षाएं 24 अगस्त से 31 अगस्त तक होंगी.

इसमें सभी स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों तथा स्नातक स्तर के एलएलबी, बीएड, बीएड स्पेशल एजुकेशन तथा बीपीएड, बीएफए व बीपीए पाठ्यक्रमों की परीक्षाए होंगी.

दूसरे चरण की परीक्षाएं 9, 10, 11 और 14 सितम्बर को होगी. इसमें बीए आर्ट्स, बीए सोशल साइंस, बीकॉम, बीएससी एजी, बीए एलएलबी, बीएससी मैथ, बीएससी (ऑनर्स) बायो, शास्त्री तथा बीवोक की परीक्षा होगी.

देश भर से सवा पांच लाख आए आवेदन

बीएचयू में स्नातक के 25 और स्नातकोतर के 131 पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए 30 जनवरी से 12 मार्च तक ऑनलाइन आवेदन मांगे गए थे. इसमें देशभर से करीब सवा पांच लाख अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें